बेरोजगारी पर निबंध – Berojgari Essay In Hindi

नमस्कार दोस्तों Top kro पर आपका स्वागत है। आज की पोस्ट में हम berojgari पर निबंध पढ़ेंगे। जैसा कि आप जानते हैं कि भारत एक विशाल देश है और यहां पर बेरोजगारी एक प्रमुख समस्या है I

ऐसे में अगर आप बेरोजगारी पर निबंध लिखना चाहते हैं लेकिन आपको मालूम नहीं है कि इस पर आप निबंध कैसे लिखेंगे तो हम आपसे अनुरोध करेंगे कि आर्टिकल को अंत तक पढ़ें ताकि आपको पूर्ण जानकारी मिल सके तथा आप बेरोजगारी पर आसानी से निबंध लिख सकें।

इस पोस्ट में आपको बेरोजगारी पर कई निबन्ध दिए गए है जैसे बेरोजगारी एस्से इन हिंदी 100 शब्दों में, बेरोजगारी पर निबंध 300 शब्दों में, बेरोजगारी पर लम्बा निबंध, बेरोजगारी पर 10 लाइनों में निबंध तथा बेरोजगारी से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न आपको इस पोस्ट में पढ़ने को मिलेंगे।

बेरोजगारी पर निबंध 100 शब्दों में – Berojgari essay in hindi

बेरोजगारी का मतलब होता है कि बिना रोजगार वाला व्यक्ति यानी जिसके पास कोई भी काम ना हो किसी भी देश में अगर बेरोजगारी अधिक है तो उस देश के लिए यह काफी घातक बीमारी है I इसके परिणाम काफी घातक होते हैं और ऐसे देशों में अशांति और अराजकता जैसा माहौल बहुत जल्द ही उत्पन्न हो जाता है तो जो देश के भविष्य के लिए अच्छा नहीं है I

इसके अलावा अगर किसी भी देश को उन्नति के रास्ते पर चलना है उसे सबसे पहले अपने देश में बेरोजगारी की समस्या को समाप्त करना होगा क्योंकि आर्थिक विकास में सबसे बड़ी बाधा है I सबसे बड़ी बात है कि बूढ़े बच्चे को बेरोजगारी कैटेगरी में गिनती नहीं किया जाता है I

बेरोजगारी पर निबंध 300 शब्दों में – Berojgari par nibandh

भारत में बेरोजगारी बढ़ने के निम्नलिखित प्रकार के कारण है जिसका विवरण हम आपको नीचे बिंदु अनुसार देंगे जो इस प्रकार है आइए जानते हैं-

जनसंख्या का बढ़ना: किसी भी देश में अगर जनसंख्या निरंतर दर से बढ़ रही है तो ऐसे में उस देश में बेरोजगारी की समस्या का उत्पन्न होना स्वाभाविक है इसके पीछे की वजह है कि जब देश में अधिक लोग होंगे और किसी भी जगह पर अगर नौकरी के लिए वैकेंसी निकाली जाएगी तो वहां पर अधिक लोगों के द्वारा आवेदन किया जाएगा।

ऐसे में सभी लोगों को रोजगार नहीं मिलेगा जिसके कारण देश में बेरोजगारी की समस्या उत्पन्न हो जाएगी इसलिए किसी भी देश में जनसंख्या का बढ़ना बेरोजगारी की समस्या को उत्पन्न करने का सबसे प्रमुख कारण है I

धीमी गति से आर्थिक विकास: दुनिया का कोई भी देश है अगर धीमी गति से आर्थिक विकास करता है तो उसके परिणाम स्वरूप देश में बेरोजगारी की समस्या उत्पन्न हो जाएगी I

छोटे छोटे उद्योगों का पतन होना: भारत जैसे देश में कई ऐसे उद्योग थे जो छोटे-मोटे पैमाने पर संचालित जाते हैं जिससे लोगों को रोजगार मिलता है लेकिन जिस प्रकार कोरोनावायरस की महामारी का प्रकोप भारत में आया उसके कारण कई छोटे-मोटे उद्योगों का पतन हो चुका है जिसके कारण देश में बेरोजगारी की समस्या उत्पन्न हो गई है I

शिक्षा प्रणाली का पुराना होना: भारत एक विशाल देश है और यहां की शिक्षा प्रणाली अभी भी पुरानी दिनों के शिक्षा प्रणाली पर ही काम कर रही है जिसके कारण आज भारत में जिस प्रकार का शिक्षा छात्रों को दिया जा रहा है उसका व्यवहारिक कोई भी महत्व नहीं है क्योंकि दुनिया तेजी के आधुनिकीकरण की तरफ जा रहा है ऐसे में छात्रों को टेक्नोलॉजी से जुड़ी हुई शिक्षा देनी होगी ताकि उन्हें रोजगार पाने में आसानी हो इसलिए भारत को अपने शिक्षा प्रणाली को पूरी तरह से बदलना होगा I

बेरोजगारी पर लम्बा निबंध – Unemployment essay in hindi

बेरोजगारी के प्रकार: बेरोजगारी निम्नलिखित प्रकार के होते हैं जिसका विवरण हम आपको नीचे बिंदु अनुसार देंगे जो इस प्रकार है –

चक्रीय बेरोजगारी

जब व्यवसाय चक्र में गिरावट दर्ज की जाती है तभी जाकर चक्रीय बेरोजगारी की समस्या उत्पन्न होती है इसके कारण कई श्रमिक अपना रोजगार गवा देते हैं I

मांग में कमी बेरोजगारी

इस प्रकार की बेरोजगारी तब घटित होती है जब मांग में कमी आती है मार्केट में जिसके कारण कई कंपनियां अपने यहां से श्रमिकों की सफाई करनी शुरू कर देती है क्योंकि उनके प्रोडक्ट मांग मार्केट में कम हो जाती है ऐसे में उन्हें कम श्रमिक के द्वारा ही अपने कंपनी को संचालित करना पड़ता है ताकि उनको अधिक पैसे खर्च ना करने पड़े I

संरचनात्मक बेरोजगारी

इस प्रकार के बेरोजगारी तब घटित होती है जब मार्केट में कुछ कंपनियों में तेजी के साथ गिरावट दर्ज की जाती है I

मौसमी बेरोजगारी

मौसमी बेरोजगारी का मतलब होता है कि कुछ ऐसे उधोग हैं जो निश्चित समय पर ही अपने अपने प्रोडक्ट का उत्पादन करते हैं और उसे बेचते हैं उदाहरण के तौर पर खेती और पर्यटन से जुड़े हुए उद्योग।

प्रतिरोधात्मक बेरोजगारी

प्रतिरोधात्मक बेरोजगारी का मतलब होता है कि जिसमें अगर किसी व्यक्ति की रोजगार चली गई है तो वह दुबारा से रोजगार खोजता है इसके अलावा अगर आप एक विद्यार्थी है आपकी पढ़ाई पूरी हो गई है तो ऐसे में आप अपने लिए रोजगार ढूंढ रहे हैं तो इस प्रकार की गतिविधियां प्रतिरोधात्मक बेरोजगारी कैटिगरी में आती है I

बेरोजगारी को दूर करने के उपाय

  • देश में बढ़ती हुई जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिए कोई कानून का निर्माण करना देश में बढ़ रही जनसंख्या को रोका जा सके।
  • शिक्षा व्यवस्था को पूरी तरह से बदलना होगा क्योंकि हमारे देश की शिक्षा प्रणाली काफी पुरानी है और आज की तारीख के मुताबिक नहीं है इसलिए आपको सबसे पहले शिक्षा प्रणाली को ऐसा करना होगा ताकि कोई भी व्यक्ति पढ़ाई लिखाई करने के बाद प्राप्त शिक्षा के माध्यम से कोई भी रोजगार प्राप्त कर सकें।
  • देश में औद्योगिकीकरण की प्रक्रिया को और भी तेजी के साथ संचालित करना ताकि अधिक से अधिक रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाना है।
  • भारत में निवेश के लिए अच्छा और पारदर्शी माहौल बनाना ताकि अधिक से अधिक विदेशी कंपनियां भारत में पैसे निवेश करें ताकि यहां पर उनके द्वारा कई प्रकार के उद्योग धंधे स्थापित करे जाएंगे जिसके माध्यम से हाथ लोगों को रोजगार मिलेगा।
  • सरकार के द्वारा देश में बेरोजगारी की समस्या को समाप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार के रोजगार संबंधित कार्यक्रम संचालित करना ताकि अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मिल सके।

देश में बेरोजगारी की समस्या काफी लंबे समय से बनी हुई है। हालाँकि सरकार ने रोजगार सृजन के लिए कई कार्यक्रम शुरू किए हैं पर अभी तक कुछ बेहतर परिणाम हासिल नहीं हो पाए है। नीति निर्माताओं और नागरिकों को अधिक नौकरियों के निर्माण के साथ ही रोजगार के लिए सही कौशल प्राप्त करने के लिए प्रयास करने चाहिए।

बेरोजगारी पर 10 लाइन – 10 Lines on Berojgari in hindi

  1. देश में बढ़ती जनसंख्या बेरोजगारी का प्रमुख कारण है I
  2. देश में पढ़े लिखे लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है और उसके मुकाबले रोजगार ना के बराबर है ऐसे में जिन युवाओं के पास रोजगार नहीं है उनको बेरोजगार कहा जाता है I
  3. पढ़े-लिखे युवा अपने घर के माली हालत को सुधारने के लिए चाय की दुकान या होटल पर काम करते हैं क्योंकि देश में नौकरी नहीं।
  4. लोगों के मन में एक भूल धारणा है कि वह जितना अधिक पढ़ाई करेंगे उतना अधिक अच्छी नौकरी उन्हें प्राप्त होगा जो कि बिल्कुल गलत है क्योंकि यह नौकरी आपकी योग्यता के आधार पर तो मिलती है लेकिन उसके साथ-साथ पड़ेगी यहां पर होना आवश्यक है।
  5. अपने सभी लोग सरकारी नौकरी करना चाहते हैं लेकिन सरकारी नौकरी की एक सीमा है उससे अधिक सरकारी नौकरी भारत में कभी भी सरकार के द्वारा जारी नहीं की जा सकती है इसलिए आप सरकारी नौकरी के अलावा प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने के बारे में सोचें।
  6. अगर सभी व्यक्ति नौकरी पाने के बारे में सोचेंगे तो नौकरी बचेगी नहीं इसलिए नौकरी खोजने के बजाय आप नौकरी देने वाला बने यानी खुद का बिजनेस शुरू कर सकते हैं।
  7. अच्छी नौकरी या व्यवसाय के लिए अच्छे अनुभव की जरूरत होती है जो पसंदीदा क्षेत्र में कार्य करने से मिलता है इसलिए आपकी रूचि जिस विषय या क्षेत्र में है उसी का चुनाव करना चाहिए।
  8. बेरोजगारी का सबसे बड़ा कारण का शिक्षा भी है क्योंकि जब आपके पास इच्छा नहीं होगी तो आपको नौकरी कहां से मिलेगी जिसके कारण कई युवा अनपढ़ रह जाते हैं और वह मजदूरी का काम करते हैं।
  9. बेरोजगारी मिटाने के लिए सरकार ने कौशल विकास केंद्रों की स्थापना की है ताकि युवा कौशल से जुड़े हुए कोर्स करवाया जा सके।
  10. कंप्यूटर ने सबसे ज्यादा बेरोजगारी को बढ़ावा दिया है क्योंकि एक ही कंप्यूटर हजारों लोगों का कार्य कर देता है।

इन्हें भी पढ़ें:-

उम्मीद करता हूं दोस्तों की “बेरोजगारी पर निबंध ( Berojgari essay in hindi )” से सम्बंधित हमारी यह पोस्ट आपको काफी पसंद आई होगी। इस पोस्ट में हमनें बेरोजगारी से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां देने का प्रयास किया है। आशा है आपको पूर्ण जानकारी मिल पाई होगी।

अगर आप यह पोस्ट आपको अच्छा लगा तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर कर सकते हैं। अगर आपके मन मे कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं हम आपसे जल्द ही संपर्क करेंगे। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद।

FAQ about Berojgari in hindi

Q: भारत के किस राज्य में सबसे अधिक बेरोजगारी है?

Ans: भारत के त्रिपुरा राज्य में सबसे अधिक बेरोजगारी है।

Q: भारत के किस राज्य में सबसे कम बेरोजगारी है?

Ans: गुजरात राज्य में सबसे कम बेरोजगारी है।

Q: भारत का विश्व में बेरोजगारी में कौनसे नम्बर पर है?

Ans: विश्व बेरोजगारी में भारत 93 नम्बर पर है।

Q: बेरोजगारी प्रमुख कारण क्या है?

Ans: बेरोजगारी में बढ़ोतरी का सबसे मुख्य कारण जनसंख्या में निरंतर वृद्धि होना है।

Q: बेरोजगारी को रोकने के लिए सरकार को क्या करना चाहिए

Ans: बेरोजगारी को रोकने के लिए सरकार जनसंख्या को नियंत्रित करना होगा और साथ में अनेकों प्रकार के रोजगार संबंधित कार्यक्रम संचालित करेंगे ताकि अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सके इसके अलावा देश में उद्योग धंधों को प्रोत्साहित करना होगा I

मेरा नाम Sandeep Karwasra है और में topkro.com ब्लॉग का ऑनर हूँ। अपने ब्लॉग के माध्यम से आप तक अच्छी जानकारी पहुंचाना मुझे काफी अच्छा लगता है।

Leave a Comment

close