बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ पर निबंध – Beti Padhao Desh Badhao Essay

नमस्कार दोस्तों Top Kro में आपका स्वागत है। इस पोस्ट में हम “बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ पर निबंध ( beti padhao desh badhao essay in hindi ) पढेंगे। Beti padhao desh badhao essay in hindi की सहायता से विद्यार्थी विज्ञान के चमत्कारों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर पाएंगे है।

इस पोस्ट में आपको बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ पर कई निबन्ध दिए गए है जैसे बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ एस्से इन हिंदी 100 शब्दों में, बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ पर निबंध 300 शब्दों में तथा बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ लम्बा निबंध इत्यादि।

बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ पर 100 शब्दों में निबंध – Beti Padhao Desh Badhao Essay In Hindi

भारत में सदियों से ही महिलाओं को उनके अधिकार से वंचित रखा गया। जब भी महिलाओं के साथ कुछ गलत हुआ तो समाज ने गलत करने वाले व्यक्ति पर उंगली नहीं उठाई बल्कि महिलाओं के रहन-सहन पर ही सवाल किए। ऐसी परिस्थिति में यदि महिला शिक्षित हो तो समाज के ऐसे लोगों को मुंह तोड़ कर जवाब दे सकती है।

महिला शिक्षित होगी तो वह अपने साथ होने वाली बुराइयों के खिलाफ लड़ पाएगी। क्योंकि आज बहुत सी महिलाएं अपने साथ हुए अपराध को उजागर नहीं होने देती ताकि समाज में उसे बेइज्जत ना होना पड़े और यही चीज उन्हें अंदर ही अंदर परेशान करती रहती है। जिसके कारण कई बार तो समाज के तानों से बचने के लिए वह आत्महत्या करने को मजबूर हो जाती है। महिलाओं को शिक्षित करने के उद्देश्य से ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत की गई।

Beti Padhao Desh Badhao Par Nibandh 300 Words

विश्व के लगभग सभी देशों में महिलाओं की शैक्षणिक, सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति तथा लिंग अनुपात में परस्पर भिन्नता देखने को मिलती है। भारत जैसे महान धार्मिक एवं सांस्कृतिक देश में भी महिलाओं को पुरुषों की अपेक्षा कम प्राथमिकता दी जाती है।
इसका मुख्य कारण यह है कि भारत का शुरुआत से ही पुरुष प्रधान देश रहा है।

हमारे देश के लोगों ने बेटियों की प्रतिभा एवं क्षमता को नहीं समझा। आज महिलाओं के खिलाफ अत्याचार बढ़ते ही जा रहे हैं। लोग गर्भ में या पैदा होने के बाद लड़कियों की हत्या करते आ रहे है फलस्वरूप आज उन्हें बचाने की आवश्यकता पड़ रही है।और शिक्षा ही एकमात्र ऐसा हथियार है जिसके बल पर संपूर्ण विश्व में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया जा सकता है। इसलिए इस अभियान का नाम ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान’ रखा गया है।

आज संवैधानिक अधिकार के तहत देश की लाखों बेटियों ने अपनी प्रतिभा से देश का नाम रोशन किया है। इतिहास के पन्नों में भी कई महिलाओं ने अपनी बहादुरी तथा अपनी प्रतिभा के दम पर अपना नाम कमाया है। बेटियां पुरुषों के समान ही हर चीज में अपना योगदान दे सकती है। बस उन्हें हौसले की जरूरत है, उन्हें पुरुषों की तरह ही हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा दिखाने के अधिकार देने की जरूरत है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत से की गई थी। इस अभियान की शुरुआत करने से पहले नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बेटियों के जन्मदिन को वैसे ही धूमधाम से मनाएँ जिस तरह बेटों के जन्मोत्सव को मनाया जाता है। बेटों के बराबर बेटियों को अधिकार मिले इसलिए इस अभियान की शुरुआत हुई।

आदिकाल से जो महिलाओं पर अत्याचार हुए उनके पीछे का कारण अशिक्षा थी। अगर हमारे पूर्वज पढ़े-लिखे होते तो आज हमारी स्थिति कई गुना सुधरी हुई होती। जब बेटियाँ पढ़ेगी – लिखेगी तो वो अपने अधिकारों के लिए खड़ी होगी। आज हमें भी अपनी पुरानी सोच को बदलना होगा तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के इस अभियान में महिलाओं का साथ देना होगा।

बेटी पढ़ाओ, देश पढ़ाओ पर निबंध 500 शब्दों में

हिन्दू धर्म शास्त्र के अनुसार महिलाओं को देवी एवं सृष्टि निर्माता कहा गया है। लेकिन वही पर बहुत सी कुप्रथा एवं संस्कारों की जंजीरों में उनके पैरों को बांधा गया है। बेटी होने पर पिता की आज्ञा का पालन करना, पत्नी बनने पर पति का कहना मानना, माँ बनने पर बच्चों का पालन पोषण करना तथा मर्यादा को कायम रखते हुए घर की चारदीवारी में कैद रहना ही उनका कर्तव्य माना जाता था। आज भी शिक्षा, सम्पत्ति एवं सामाजिक सहभागिता से महिलाओं को वंचित रखा जाता है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ लड़कियों के लिए शुरू किया गया एक अभियान है जिसका मुख्य उद्देश्य कन्याओं को बचाना और उनको शिक्षित करना है। इस अभियान का शुभारम्भ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को हरियाणा राज्य के पानीपत शहर में किया गया। देश मे महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचारों एवं महिला शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस अभियान की शुरुआत की गई।

सन् 1991, 2001 एवं 2011 की जनगणना के अनुसार महिलाओं की जनसंख्या पुरुषों की तुलना में निरंतर गिरावट देखी गई। देश में महिलाओं की घटती जनसंख्या का मुख्य कारण अशिक्षा के साथ-साथ आज भी हमारे समाज में व्याप्त कुछ कुप्रथाएं है। आज भी सामान्य लोगों की मानसिकता होती है कि बेटी तो पराया धन है इसे पढ़ाने से क्या फायदा तथा शादी के समय बहुत सारा दहेज भी देना पड़ेगा। ऐसी कुछ मानसिकताओं के कारण लोग बेटियों को पैदा होने से पहले ही मार देते थे।

भारत सरकार ने सन् 2015 से “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” अभियान को चलाकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास आरंभ कर दिया। लोगों को सफल महिलाओं का उदाहरण देकर यह समझाने का प्रयास किया जाने लगा कि बेटियों को भी मौका दिया जाए तो ये केवल घर ही नहीं बल्कि देश भी चला सकती है।

बस उन्हें पुरुषों के समान अधिकार देने की जरूरत है। सरकार द्वारा चलाई गई इस मुहिम का सकारात्मक प्रभाव आज हमें देखने को मिल रहा है। आज बेटियों की संख्या में बढ़ोतरी होने लगी है तथा महिला शिक्षा में भी काफी सुधार देखने को मिला है।

“बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” कार्यक्रम का उद्देश्य बेटियों के अस्तित्व को सुरक्षा प्रदान करना है, बेटियों के जन्म दर में बढ़ोतरी करना है तथा बेटियों को शिक्षित करना है। देश मे महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचार को खत्म करने का एकमात्र उपाय शिक्षा है। अगर बेटियां शिक्षित होगीं तो देश की तरक्की की नई दिशा मिलेगी। आज महिला शिक्षा को बढ़ावा देने की जरूरत है।

सरकार के द्वारा चलाए गए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का भी काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ा। आज गरीब परिवार की बेटियों को पढ़ने के लिए कई प्रकार की सुविधा सरकार के द्वारा दी जा रही हैं। इस अभियान के कारण आज बेटियों की जनसंख्या समाज में संतुलित हो रही है। आज बेटियां कई क्षेत्रों में पुरुषों की तरह अपनी प्रतिभा दिखा रही है। इस अभियान के कारण लोग जागरूक हो रहे हैं और बेटियों के प्रति लोगों की सोच भी सकारात्मक हो रही है।

आज शिक्षा के विस्तार के फलस्वरुप लोगों की मानसिक सोच में काफी परिवर्तन आया है। आज हम बेटे एवं बेटियों की परवरिश तथा शैक्षणिक प्रक्रिया को एक समान रखने का प्रयास कर रहे है। बल्कि देखा जाए तो आज लड़कियां प्रतिस्पर्धा एवं सेवा के क्षेत्र में लड़कों से आगे बढ़ती जा रही हैं। अपने माता-पिता के साथ-साथ देश का नाम भी रोशन कर रही हैं। आज हमें भी अपनी सोच को बदलना होगा तथा सरकार के इस अभियान में साथ देना होगा।

उम्मीद करता हूं दोस्तों की “बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ पर निबंध ( beti padhao desh badhao essay in hindi )” से सम्बंधित हमारी यह पोस्ट आपको काफी पसंद आई होगी। इस पोस्ट में हमनें बेटी पढ़ाओ देश बढ़ाओ से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां देने का प्रयास किया है। आशा है आपको पूर्ण जानकारी मिल पाई होगी।

अगर आप यह पोस्ट आपको अच्छा लगा तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर कर सकते हैं। अगर आपके मन मे कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं हम आपसे जल्द ही संपर्क करेंगे। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद।

मेरा नाम Sandeep Karwasra है और में topkro.com ब्लॉग का ऑनर हूँ। अपने ब्लॉग के माध्यम से आप तक अच्छी जानकारी पहुंचाना मुझे काफी अच्छा लगता है।

Leave a Comment

close