Krushi seva kendra/कृषी सेवा केंद्र/ किसान सेवा केंद्र कैसे खोले?

कृषी सेवा केंद्र, Krushi seva kendra kaise khole: दोस्तों, अगर देश का किसान अन्न पैदा न करे तो हम अपना जीवन नहीं बिता सकते। किसान अपने खेती में अच्छी पैदावार के लिए कई तरह की वस्तुएं चाहते हैं, ताकि उनके पौधे ठीक से विकसित हो सकें। आजकल नए पौधे उगाए जा रहे हैं, ऐसे में सभी किसानों को खेती करने के लिए नए उपकरण और जानकारी नहीं मिल पाती हैं।

सरकार किसानों के लाभ के लिए नई-नई योजनाएं लागू करती है, लेकिन गांव में किसानों को उन योजनाओं की जानकारी समय रहते नहीं मिल पाती है। सरकार ने ऐसे किसानों के लिए हर गांव में किसान सेवा केंद्र (Krushi seva kendra) खोलने का निर्णय लिया है। आज के इस लेख में हम जानेंगे कि किसान सेवा केंद्र क्या है? किसान सेवा केंद्र कैसे खोले, किसान सेवा केंद्र के लिए आवेदन कैसे करें,किसान सेवा केंद्र लेने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?यह सब आपको इस लेख के माध्यम से पता चलेगा।

Contents show

कृषी सेवा केंद्र कैसे खोले? | Kisan Seva Kendra Kaise Khole

कृषि सेवा केंद्र: जैसा कि आप नाम से ही समझ रहे होंगे कि यह योजना किसानों के लिए है। इस योजना से किसानों को घर बैठे खेती करने के लिए किसान सेवा केंद्र (krushi seva Kendra) के माध्यम से कृषि क्षेत्र के बारे में आवश्यक उपकरण, बीज, कीटनाशक और सभी जानकारी दी जाएगी । किसान आसानी से उन केंद्रों से खेती के लिए आवश्यक सभी वस्तु की खरीद सकते हैं। किसान केंद्र की शुरुआत 2020 में हुई थी। सरकार की इस योजना के आते ही किसान को अपने गांव से ही खेती करने की पूरी सुविधा मिल गई है।

किसान सेवा केंद्र का मुख्य उद्देश्य

Krushi seva kendra: उत्तर प्रदेश सरकार का मुख्य लक्ष्य किसानों को आर्थिक मदद देना है, इसके लिए इस योजना का प्राथमिक लक्ष्य उन सभी को कृषि से संबंधित सभी प्रकार की चीजें उनके गांव में ही उपलब्ध कराना है। कई बार किसान अपने खेत के लिए खाद बीज लेने शहर आदि जाता है, जिसमें बीज खरीदने के लिए अतिरिक्त पैसे देने पड़ते हैं। इस स्थिति को देखते हुए सरकार ने किसान सेवा केंद्र (krushi seva Kendra) शुरू किया है।

किसान सेवा केंद्र को खोलने के लिए आवश्यक योग्यता

  • अगर आप किसान सेवा केंद्र (krushi seva kendra) को खोलना चाहते हैं तो आपके पास निम्न योग्यता होनी चाहिए।
  • योजना का उपयोग करने वाला पात्र उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदन करने वाले पात्र के पास उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है।
  • उस व्यक्ति का निवास प्रमाण पत्र होना चाहिए।
  • जो पात्र किसान सेवा केंद्र या Krushi seva kendra के लिए आवेदन करना चाहता है, उसके खिलाफ किसी भी प्रकार की अदालत के माध्यम से कोई आरोप नहीं होना चाहिए।
  • आवेदक के परिवार का वार्षिक लाभ का ब्योरा।
  • व्यक्ति का किसी सरकारी निकाय से संबंध नहीं होना चाहिए।
  • कृषि सेवा केंद्र लेने के लिए आपके पास कार्यस्थल या स्टोर होना चाहिए।
  • यदि आप इस मानदंड को पूरा करते हैं, तो आप निश्चित रूप से सरकार के किसान सेवा केंद्र में आवेदन करने के योग्य हैं।

किसान सेवा केंद्र को खोलने के लिए शैक्षिक योग्यता

एक व्यक्ति जिसने भारत के कानून के माध्यम से जुड़े किसी भी बोर्ड से रसायन विज्ञान, कृषि या समकक्ष में डिग्री प्राप्त किया है, वह किसान सेवा केंद्र या krushi seva Kendra के लिए आवेदन कर सकता है।

किसान सेवा केंद्र खोलने के लिए आवश्यक आयु

  • आवेदन करने वाले पात्र की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 50 वर्ष तक होनी चाहिए।
  • आयु की गणना 1 जनवरी 2020 से की जाती है।
  • किसान सेवा केंद्र प्रारंभ करने हेतु चरित्र प्रमाण पत्र उपयुक्त होना चाहिए।
  • आवेदन के समय अपने ग्राम पंचायत के प्रमुख के माध्यम से व्यक्तिगत प्रमाण पत्र लेना महत्वपूर्ण है।

किसान सेवा केंद्र में आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

जो आवेदक किसान सेवा केंद्र या krushi seva Kendra के लिए आवेदन करना चाहता है, उसके पास निम्न डॉक्यूमेंट होने चाहिए।

  • आवेदन करने वाले व्यक्ति का आधार कार्ड
  • व्यक्ति का चरित्र प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • शैक्षणिक योग्यता प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • जीमेल आईडी
  • फोटोग्राफ
  • बैंक खाता संख्या

ये भी पढ़ें:

किसान सेवा केंद्र में आवेदन करने के लिए शुल्क

जो लोग किसान सेवा केंद्र (Kisan seva Kendra) में आवेदन करना चाहते हैं उन्हें आवेदन करने के लिए ₹2000 का शुल्क देना होगा। यह मूल्य किसान विकास कृषि बहु राज्य सहकारी समिति के पक्ष में लिया जा सकता है। इसका भुगतान आप डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड,नेट बैंकिंग और इंटरनेट बैंकिंग के जरिए भी कर सकते हैं।

किसान सेवा केंद्र कैसे खोले?

किसान सेवा केंद्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

  • जो आवेदक किसान सेवा केंद्र में आवेदन करना चाहता है, वो निम्न प्रकार से आवेदन कर सकता हैं।
  • सबसे पहले आवेदक को upkds.org की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इंटरनेट साइट पर जाने के बाद, आपको कई विकल्प दिखाई देते हैं।
  • इसके साथ ही आपको नोटिफिकेशन वाला एक सेक्शन भी दिखाई देगा।
  • नोटिफिकेशन के ऑप्शन पर क्लिक करते ही सबसे पहले किसान सेवा केंद्र या Krushi seva kendra का लिंक दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें।
  • अब आपके सामने एक बिल्कुल नया टैब खुल जाता है।
  • इस फॉर्म पर आपसे जो भी जानकारी मांगी गई है, उसे ढंग से भरें और कुछ फाइलें जो आपको जोड़नी हैं, उन्हें ठीक से जोड़ें।
  • दस्तावेज़ अटैच करने के बाद, एक बार पूरी जानकारी पढ़ कर देख ले, फिर आप डेबिट कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके ₹2000 की कीमत निश्चित रूप से जमा कर सकते हैं।
  • इसके बाद इसके लिए आवेदन कर दें और आवेदन पत्र को प्रिंट कर लें और आगे के काम के लिए सुरक्षित रख लें।

कृषि सेवा केंद्र के लिए ऑफलाइन आवेदन

यदि आप एक कृषि सेवा केंद्र शुरू करके अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो आप सभी के लिए इस व्यवसाय के लिए लाइसेंस प्राप्त करना सबसे महत्वपूर्ण होगा। आप सभी बिना लाइसेंस के कृषि सेवा केंद्र या krushi seva Kendra नहीं चला सकते। हमारे द्वारा नीचे बताए गए स्टेप्स को फॉलो करके आप बड़ी ही आसानी से अपना लाइसेंस ऑफलाइन तरीके से बनवा पाएंगे:

चरण 1: अपना लाइसेंस प्राप्त करने के लिए, आप सभी को अपने निकटतम कृषि शाखा कार्यालय में जाना होगा।

चरण 2: अब आपको वहां के अधिकारी से अपने खाद्य व्यवसाय का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए कहना है।

चरण 3: अब कृषि विभाग के अधिकारी आपके पास आवश्यक फाइलों की सूची और एक फॉर्म के साथ आएंगे।

चरण 4: आपको इस फॉर्म में पूछे गए सभी तथ्यों को बहुत सावधानी से भरना चाहिए।

चरण 5: आपको उन सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ जोड़ना होगा, जो उस सूची में लिखा है।

चरण 6: इसके बाद आप कृषि विभाग के अधिकारी के माध्यम से अपने लाइसेंस में पंजीकृत हो सकते हैं और आपको अपना लाइसेंस 28 से 30 दिनों के अंदर यानी लगभग 1 महीने में मिल जाएगा।

चरण 7: यह लाइसेंस केवल दो वर्षों के लिए वैध होता है।

यदि आप भविष्य में यही व्यवसाय करना चाहते हैं, तो आपको अपना लाइसेंस फिर से रिन्यू करना होगा।

किसान सेवा केंद्र को खोलने के लिए चयन प्रक्रिया

  • किसान सेवा केंद्र खोलने के लिए 3 तरह की चयन प्रक्रिया हो सकती है।
  • सबसे पहले आपको चुनाव के लिए अभ्यास करने की आवश्यकता है। यदि आपके फॉर्म के सभी तथ्य सही पाए जाते हैं, तो आपको साक्षात्कार (interview) के लिए बुलाया जाएगा।
  • यदि एक ग्राम पंचायत से किसान सेवा केंद्र के लिए एक से अधिक फॉर्म आते हैं तो उस ग्राम पंचायत में उम्मीदवारों का चयन लकी ड्रॉ के माध्यम से किया जा सकता है और इसकी पूरी जानकारी यूकेपीडीएस (UKPDS) की इंटरनेट साइट पर उपलब्ध कराई जाती है।
  • ग्राम पंचायत के किसान सेवा केंद्र (Krushi seva kendra) के लिए जिस व्यक्ति का चयन किया जाएगा, उस व्यक्ति को ग्राम पंचायत के आवाहन के भीतर भूमि स्वामी या 10×20  का किराया जमा करना होगा।

कृषि सेवा केंद्र के लिए जीएसटी नंबर

कृषि सेवा केंद्र या krushi seva Kendra खोलने के लिए आपको अपने केंद्र के लिए ऑनलाइन जीएसटी नंबर भी लेना होगा। इसके जरिए आपको सरकार की ओर से एक इंडिकेटर मिल सकता है, जिसके जरिए आप अपने केंद्र को उस जगह खोल सकते हैं, जहां आप उसे खोलना चाहते हैं। इसके लिए अब आपको कोई कठिनाई नहीं होगी। इसको खोलने के लिए जीएसटी नंबर का होना अनिवार्य है।

कृषि सेवा केंद्र खोलने के लिए लागत राशि

कृषि सेवा केंद्र खोलने के लिए आपके पास 10 लाख तक की राशि होनी चाहिए। इसके बाद जैसे-जैसे आपकी आय में वृद्धि होगी, आप अपने उद्यम को उसी के अनुसार बढ़ा सकते हैं। उसके बाद आपको बाजार में यह देखना होगा कि किस चीज की ज्यादा डिमांड है, उसके अनुरूप आप कृषि से जुड़े सभी सामान होलसेल रेट पर ऑर्डर करके बेच सकते हैं।

आप जिस भी कंपनी से प्रोडक्ट्स मंगवाते हैं, उसका मार्जिन और नेगोशिएशन ठीक से करने के बाद ही आप प्रोडक्ट्स खरीद सकते हैं। वैसे अगर फंडिंग सही बताई जाए तो अगर गोदाम और स्टोर आपका अपना है तो आपकी फंडिंग भी कम हो सकती है। लेकिन अगर आप दोनों चीजों को किराये पर लेते हैं तो आपके निवेश में वृद्धि भी हो सकती है।

कृषि सेवा केंद्र के लिए स्टॉफ़

आपको कृषि सेवा केंद्र, या खाद्य बीज की दुकान के लिए चार-पांच आदमी कर्मचारी के रूप में होने चाहिए। क्योंकि कृषि सेवा केंद्र खोलते समय, आपके पास दवा, बीज, खाद्य के जानकार लोग अवश्य होने चाहिए। इसलिए उन्हें नियुक्त करने से पहले आप उनके डिप्लोमा और सर्टिफिकेट को अच्छे से देख लें। उसके बाद 2-3 ऐसे लोग होने चाहिए जो खाद्य उत्पादन की दुकान में आपूर्ति करने के काम आए। क्‍योंकि इसके लिए भागती-दौड़ती दुनिया के एक या एक से अधिक लोग की भी जरूरत होती है, जो डिस्‍ट्रीब्‍यूटर्स, होलसेलर्स के जरिए मिलने वाले उत्‍पादों को बेचने में मदद कर सके और उन्‍हें प्रमोट करने के साथ-साथ किसानों की पूर्ति करने में भी मदद कर सकें।

कृषि सेवा केंद्र के लिए मार्केटिंग/प्रचार

जब आप कृषि सेवा केंद्र (Krushi seva kendra) और खाद,बीज, उर्वरक का काम शुरू कर रहे होते हैं तो इसके लिए बड़ी संख्या में किसान आपकी मदद के लिए आते हैं, इसके लिए आपको कुछ दवाओं और उनके लिए कुछ वस्तुओं पर कुछ छूट रखनी होगी और आपको अतिरिक्त रूप से मुफ्त किसान परामर्श भी देनी होगी। ऐसा अवश्य करें तभी किसान बड़ी संख्या में आपके पास आएंगे। इससे आपकी आमदनी में उछाल भी आ सकता है और आपके केंद्र का प्रचार भी अच्छा हो सकता है।

  • यदि आप मार्केटिंग पर अधिक खर्च करना चाहते हैं, तो आप इसे समाचार पत्रों, टीवी में बिक्री के लिए भी दिखा सकते हैं, इसके अलावा आप पैम्फलेट छपवाकर , बंटवा सकते हैं।
  • इसके अलावा आप इसे ऑनलाइन भी बेच सकते हैं। ऑनलाइन ऐसी कंपनियां हैं, जिनमें किसान वर्ग के लोग काफी जुड़े हुए हैं, वहां आप अपने krushi seva Kendra के बारे में हर तरह के आंकड़े रख सकते हैं और वहां आप उन्हें सही सलाह भी दे सकते हैं।
  • ताकि किसान आपके केंद्र की खूबियों को जान सकें और आपके स्टोर पर सामान खरीदने के लिए उपलब्ध रहें।
  • आपको अपने कृषि सेवा केंद्र का पता भी गूगल मैप पर लगाना होगा ताकि लोग आपके केंद्र तक आसानी से पहुंच सकें।

ये भी पढ़ें:

कृषि सेवा केंद्र खोलने में कितना रिस्क है ?

कृषि सेवा केंद्र (krushi seva Kendra) खाद,बीज और उर्वरक के काम में काफी खतरा है। क्योंकि कई दवाई का एक्सपायरी समाप्त हो जाती हैं यदि उनके निर्माण की तारीख से सही समय से उपयोग नहीं किया जाता है, तो इससे कई तरह के नुकसान हो सकते हैं। इसके अलावा, आम तौर पर जलवायु या अन्य कारणों से भी कभी कभी दवाएं नहीं बिकती हैं। इससे आपको लाखों का नुकसान भी हो सकता है। इसलिए इस व्यवसाय में बहुत सारे खतरे जुड़े होते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – Related FAQS

कृषि सेवा केंद्र के लिए कौन आवेदन कर सकता हैं?

किसान सेवा केंद्र को खोलने के लिए उस व्यक्ति को उत्तर प्रदेश राज्य का मूल निवासी होना अनिवार्य है। साथ ही उसके ऊपर न्यायालय द्वारा कोई भी केस या मुकदमा न लगा हो। ऐसा व्यक्ति किसान सेवा केंद्र (Kisan seva kendra) या कृषि सेवा केंद्र (krushi seva Kendra) में आवेदन कर सकता हैं।

कृषि सेवा केंद्र को खोलने से किसानों को क्या लाभ प्राप्त होगा?

ग्राम पंचायत में कृषि सेवा केंद्र खुल जाने से किसानों को सस्ते दाम पर कृषि करने के लिए सभी आवश्यक चीजें आसानी से उपलब्ध हो जायेंगी,फिर इसके लिए किसानों को शहर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। ऐसे में किसानों का समय और पैसा दोनों बचता हैं।

क्या किसान सेवा केंद्र के लिए किसी अन्य राज्य के लोग आवेदन कर सकते हैं?

यह योजना सिर्फ उत्तर प्रदेश राज्य के लोगों के लिए है। यदि व्यक्ति उत्तर प्रदेश राज्य में रहता है तो वह इसमें आवेदन कर सकता है। इसके अलावा अन्य किसी भी राज्य के लोग इस केंद्र के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं।

कृषि सेवा केंद्र खोलने में कितना लाभ मिल सकता है?

कृषि सेवा केंद्र या krushi seva Kendra खोलने पर 20 से 40% तक का लाभ मिल सकता है।

कृषि सेवा केंद्र खोलने के लिए जरूरी साधन कौन-कौन से होते हैं?

कृषि सेवा केंद्र खोलने के लिए कुछ जरूरी साधनों की जरूरत पड़ेगी  जैसे कि – दुकान, गोडाउन, 3-4 लोग का स्टाफ, एक वाहन और , GST नंबर, लाइसेंस आदि।

कृषि सेवा केंद्र कहां-कहां पर खोलना ज्यादा सही होता है?

कृषि सेवा केंद्र गांवों में, अनाज मंडी में और होलसेल मार्केट में खोलना सही रहता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको किसान सेवा केंद्र क्या है, किसान सेवा केंद्र कैसे खोले? (Kisan Seva Kendra Kaise Khole) तथा किसान सेवा केंद्र के लिए आवेदन कैसे करें और कृषि सेवा केंद्र (Krushi seva Kendra) से जुड़ी सारी जानकारी दी हैं। हम आशा करते है कि यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। अगर इससे जुड़ी कोई और जानकारी या कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी बात लिखे।