MA क्या है, MA करने के क्या फायदे हैं?

Spread the love

दोस्तों पढाई लिखाई का हमारे जीवन बहुत ही ज्यादा महत्व है, यहीं कारण है कि बहुत सारे लोग अपनी ग्रेजुएशन कि पढाई पूरी करने के बावजूद और आगे कि पढाई करते है।

आमतौर पर आगे कि पढाई के लिए वे पोस्ट ग्रेजुएशन कि पढाई करते है, तो आज हम भी आपको पोस्ट ग्रेजुएशन के एक कोर्स MA के बारे में बतायेंगे कि: MA क्या है ?, MA कैसे करें ? और MA करने के क्या फायदे है ?

MA क्या है – MA Kya Hai?

MA यानी कि Master of Arts एक पोस्ट ग्रेजुएशन या स्नाकोत्तर का एक कोर्स है, जिसे अधिकतर Arts के स्टूडेंट्स ही करते है अब ऐसा नहीं है, कि यह कोर्स केवल arts के स्टूडेंट्स के लिए है, बल्कि यह कोर्स ऐसा है, जिसमे कोई भी स्ट्रीम या ब्रांच वाला विद्यार्थी इसकी पढाई कर सकते है, एम. ए. का जो कोर्स है वह केवल भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में लोकप्रिय है |

Master of arts मतलब कि आपको इस कोर्स में arts के किसी भी एक विषय में आपको master स्तर कि पढाई करायी जाती है, ताकि आप उस विषय में पारंगत हो जाओ, यह कोर्स भी अन्य पोस्ट ग्रेजुएशन के कोर्स जैसे कि MBA. Msc कि तरह दो वर्षो का होता है, आमतौर पर 2 वर्ष के कोर्स को 4 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है |

एम. ए. के विद्यार्थियों को अक्सर किसी विषय पर शोध पूरा करने और अपनी डिग्री पूरी करने से पहले एक थीसिस पेपर प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है।

MA का full form क्या है – MA Ka Full Form?

MA एक पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स है, जिसका फुल फॉर्म Master of Arts है, जिसका हिंदी में अर्थ कला में स्नाकोत्तर होता है |

अब चलिए हम मान लेते है कि आप अब आगे कि पढाई या पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स एम. ए. के जरिये करना चाहते है:

तो फिर अब सवाल आता है कि एम. ए. का कोर्स कहाँ से करें, एम. ए. के कोर्स के लिए eligiblity criteria क्या है, एम. ए. के कोर्स के लिए बेस्ट colleges कौन से है

मतलब कि दोस्तों एम. ए. के कोर्स करने के लिए वह पूरी प्रक्रिया क्या है, जिसके जरिये आप यह कोर्स कर सकते है |

इसे भी पढ़ें:- BCA क्या है और BCA करने के क्या फायदे हैं?

चलिए सबसे पहले बात करते है कि एम. ए. करने के लिए eligiblity criteria क्या है ?

MA के लिए Eligiblity Criteria

सबसे पहले तो आपको किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से 10+2 कि पढाई पूरी करनी होगी, फिर इसके बाद ग्रेजुएशन का कोर्स पूरा करना होगा |

इसके साथ ही आपको ग्रेजुएशन कि पढाई में कम से कम 50% अंक लाना अनिवार्य है, कुछ कॉलेज और संस्थान में यह अलग भी हो सकता है |

कुछ कॉलेज और संस्थान एम. ए. के कोर्स के लिए एक entrance exam भी करवाते है, जिसमे आपके अंको के आधार पर आपको एम. ए. के कोर्स में एडमिशन मिलेगा |

चलिए अब बात करते है, कि एम. ए. में एडमिशन कैसे ले ?

MA में Admission कैसे लें?

जैसे कि मैंने आपको बताया कि एम. ए. में एडमिशन लेने के लिए कुछ colleges या संस्थान entrance exam या प्रवेश परीक्षा आयोजित करते है, जिसमे वे विद्यार्थी उस परीक्षा को पास करते है, और उनके अंको के आधार पर उनका चयन किया जाता है |

चयन होने के बाद कुछ documents के साथ उस कॉलेज में जाकर एडमिशन ले सकते है, और इसकी अधिक जानकारी के लिए आप उस कॉलेज के official website में भी visit कर सकते है |

ये कुछ कॉलेज है, जो entrance exam लेती है:

Punjab University Common Entrance Test
Sri Venkateswara University Admission Exam [svucet]
Indira Gandhi National Open University Entrance Test
Alagappa University Entrance Exam
Netaji Subhas Open University Entrance Exam
Periyar University Entrance Test
Mumbai University Entrance Exam
Nalanda Open University Admission Exam
Madras University Admission Test

अब कुछ कॉलेज बिना किसी entrance exam के आपको कॉलेज में एडमिशन देती है बस इसके लिए आपको ग्रेजुएशन के कोर्स में कम से कम 50% अंक लाने अनिवार्य होते है |

इसे भी पढ़ें:- BDO क्या होता है तथा BDO कैसे बनेें?

MA में कौनसे Subject होते हैं?

वैसे तो एम. ए. के कोर्स में बहुत सारे subjects होते है, इनमे से किसी भी subjects में आप एम. ए. का कोर्स कर सकते है |

Development StudiesEconomics
EducationEnglish
English LiteratureGeography
HindiHistory
International RelationsJournalism
MarathiMass Communication
MathematicsMusic
PhilosophyPolitical Science
PsychologyPublic Administration
PunjabiRural Development
SanskritSocial Work
SociologyTamil

MA कि फीस कितनी होती है?

अगर बात करें एम. ए. कि फीस तो यह अलग अलग कॉलेज पर निर्भर करता है, कुछ कॉलेज कम फीस लेकर भी एम. ए. का कोर्स करवाते है, तो कुछ कॉलेज ज्यादा फीस लेकर एम. ए. का कोर्स करवाते है | फिर भी एक अनुमान के अनुसार आपको एम. ए. करने के लिए 20,000 से लेकर 50,000 रूपये हो सकती है |

Best College for MA In India

वैसे तो एम. ए. करने के लिए हमारे देश में बहुत सारे कॉलेज है, परन्तु उनमे कुछ कॉलेज बहुत ही अच्छे है, जैसे कि:

Lady Shri Ram College, New Delhi
Christ University, Bangalore
Abdul Razak Degree College
Adarsh Institute of Technology and Education
Aditya College of Engineering and Advanced Studies – ACEAS
St. Stephen’s College, New Delhi
Miranda House, New Delhi
Acharya Academy
Acharya Nagarjuna University
Loyola College, Chennai
Madras Christian College, Chennai
Hansraj College, Delhi
Sri Ram College of Commerce, Delhi
Hindu College, New Delhi
Fergusson College, Pune

इसे भी पढ़ें:- BSC क्या है BSC कौन कर सकता है?

M.A. करने के फायदे

अगर आप एम. ए. कि पढाई पूरी कर लेते है, तो इसके बहुत सारे फायदे है जैसे कि:

अगर आपको टीचिंग करना बहुत पसंद है, तो आप एम. ए. के कोर्स के जरिये टीचिंग के field में आगे बढ़ सकते है |

एम. ए. करने के वजह से आपको भाषा में बहुत ही अच्छी पकड़ हो जाती है, जिसके वजह से एक अच्छा content writer भी बन सकते है |

एम. ए. करने के बाद आपको बहुत सारी कंपनी एक सीनियर पोस्ट कि जॉब देती है |

MA के बाद जॉब

कोई भी पढाई करने के बाद हमारे दिमाग यह सवाल जरुर आता है कि इसके बाद स्कोप क्या है और इसका जॉब क्या है:

एम. ए. करने के बाद गवर्मेंट और प्राइवेट जॉब दोनों तरह के जॉब कर सकते है |

Private Job:

Social WorkerTeacher
AnchorActor
Theatre ArtistContent Writer
Radio JockeyTranslator

Government Job:

Network administratorProfessor
ManagerResearcher
Junior ExecutiveLecturer
JournalistBank Manager
ColumnistRadio Jockey

Top Companies:

MicrosoftAccenture
HR InternationalACA
NISTNews Corp
Wipro Technologies LtdKotak Mahindra Bank
AccentureVIBGYOR High
International Justice MissionAmerican Express Co. (AMEX)
HSBCThe Goldman Sachs Group
CrisilEY (Ernst & Young)
IPAITI

MA के बाद Salary

एम. ए. करने के बाद हमारे दिमाग में फिर एक सवाल आता है कि आखिर इसके बाद हमारी जॉब के रूप में सैलरी क्या होगी ?

तो बात करें एम. ए. के बाद कि सैलरी कि तो आपकी Fresher के रूप में 3 लाख रूपये प्रतिवर्ष होती है, वही अगर आप experienced हो जाते हो तो आपकी सैलरी 5 लाख रूपये प्रतिवर्ष हो जाती है |

इन्हें भी पढ़ें:-

FAQ About M.A.

एम. ए. क्या है ?

एम. ए. यानी कि Master of Arts एक पोस्ट ग्रेजुएशन या स्नाकोत्तर का एक कोर्स है, एम. ए. के विद्यार्थियों को अक्सर किसी विषय पर शोध पूरा करने और अपनी डिग्री पूरी करने से पहले एक थीसिस पेपर प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है।

एम. ए. कितने वर्षो का होता है ?

यह कोर्स भी अन्य पोस्ट ग्रेजुएशन के कोर्स जैसे कि MBA. Msc कि तरह दो वर्षो का होता है, आमतौर पर 2 वर्ष के कोर्स को 4 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है |

एम. ए. का फुल फॉर्म क्या है ?

एम. ए. का फुल फॉर्म: Master of Arts होता है |

एम. ए. कब कर सकते है ?

आप एम. ए. कि पढाई ग्रेजुएशन कि पढाई पूरी करने के बाद कर सकते है |

एम. ए. कि पढाई कौन कर सकता है

एम. ए. कि पढाई कोई भी कर सकता है बस उन्हें अपना ग्रेजुएशन कि पढाई पूरी करनी होगी |

आशा करता हूँ दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट काफी पसंद आई होगी तथा एम. ए. के कोर्स से जुड़े सभी सवालों के जवाब आपको मिले होंगे, हम आपके उज्ज्वल भविष्य कि कामना करते है |


Spread the love

Leave a Comment