Mercury Planet In Hindi – बुध ग्रह की जानकारी

Spread the love

इस लेख में आपको बुध ग्रह के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी ( Mercury Planet In Hindi ) पढ़ने को मिलेगी| हमने इस पोस्ट में बुध ग्रह के बारे में विस्तृत जानकारी देने की कोशिश की है|

आपसे निवेदन है की आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ें क्योंकि इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आपको बुध ग्रह के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी|

बुध ग्रह – Mercury Planet In Hindi

Mercury Planet को हम बुध ग्रह के नाम से भी जानते हैं। बुध सूर्य के सबसे निकटतम ग्रहो में से एक है। सूर्य के सबसे निकट होने के कारण बुध ( Mercury ) सौरमंडल के सभी 8 ग्रहों में से दूसरा सबसे गर्म ग्रह है।

सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह शुक्र ग्रह है। हमारे सौर मंडल का सबसे छोटा ग्रह बुध है। बुध ग्रह की सतह पूरी तरह से पथरीली है। बुध ग्रह का कोई उपग्रह नहीं है।

पृथ्वी के मुकाबले यह ग्रह धीरे – धीरे अपनी धुरी पर घूमता है। पृथ्वी के दिनों के हिसाब से बुध 88 दिनों में सूर्य के चारों तरह अपना चक्र पूरा करता है।

इसे भी पढ़ें : फिटकरी ( Fitkari ) – रासायनिक नाम, सूत्र व प्रयोग

बुध ग्रह पर दिन काफी लंबा होता है। बुध ग्रह पर एक दिन पृथ्वी के 59 दिनों के बराबर होता है।

बुध की सतह से सूर्य को देखने पर, पृथ्वी से देखे जाने की तुलना में तीन गुना बड़ा दिखाई देगा। बुध पर सूर्य की रोशनी पृथ्वी की तुलना में सात गुना अधिक है।

बुध ग्रह का इतिहास (Mercury Planet History In Hindi)

आज से लगभग 5000 वर्ष पूर्व सुमात्रा के लोग बुध ग्रह ( Budha Graha ) के बारे में जानते थे। 500 ईसा पूर्व प्राचीन ग्रीस के खगोल वैज्ञानिकों ने भी इसके होने की पुष्टि की थी।

Mercury Planet In Hindi
Mercury Planet In Hindi

बुध ग्रह को अंग्रेजी में मर्क्युरी कहते हैं है। बुध ग्रह का Mercury नाम रोमन देवताओं के नाम पर रखा गया है। इस गृह को Mercury नाम इसकी तेज घूर्णन गति के कारण दिया गया था।

बुध ग्रह का आकार और दूरी – Mercury Planet Size And Distance

1,516 मील (2,440 किलोमीटर) की त्रिज्या के साथ, बुध पृथ्वी की चौड़ाई के 1/3 से थोड़ा अधिक है। सूर्य से बुध की यात्रा करने में सूर्य की रोशनी को 3.2 मिनट लगते हैं। बुध का व्यास 4,879 KM है। यह आकार में चंद्रमा के बराबर है।

इसे भी पढ़ें : सभी मापने वाले यंत्र और उनका प्रयोग

बुध ग्रह की कक्षा और रोटेशन – Mercury Planet’s Orbit And Rotation

बुध ( Budha Graha ) की अत्यधिक विलक्षण, अंडे के आकार की कक्षा इस ग्रह को सूर्य से 29 मिलियन मील (47 मिलियन किलोमीटर) करीब और सूर्य से 43 मिलियन मील (70 मिलियन किलोमीटर) की दूरी तक ले जाती है।

यह प्रत्येक 88 दिनों में सूर्य के चारों ओर गति करता है। किसी भी अन्य ग्रह की तुलना में यह लगभग 29 मील (47 किलोमीटर) प्रति सेकंड की गति से सूर्य के चारो तरफ करता करता है। इसका परिक्रमा पथ अंडाकार और दीर्घ वृताकार है।

बुध अपनी धुरी पर धीरे-धीरे घूमता है और पृथ्वी के हर 59 दिन में एक चक्कर पूरा करता है। सुबह का सूर्य ग्रह की सतह के कुछ हिस्सों से दिखाई देता है। सतह के अन्य हिस्सों के लिए सूर्यास्त के समय भी यही बात होती है।

एक बुध सौर दिवस (एक पूर्ण दिन-रात्रि चक्र) 176 पृथ्वी दिनों के बराबर होता है। सूर्य के चारों ओर अपनी कक्षा के समतल के संबंध में बुध के घूर्णन की धुरी सिर्फ 2 डिग्री झुकी हुई है। यह अन्य ग्रहों की तरह मौसम का अनुभव नहीं करता है।

बुध ग्रह की संरचना – Structure of Mercury Planet

बुध पृथ्वी के बाद दूसरा सबसे घना ग्रह है। इसमें लगभग 1,289 मील (2,074 किलोमीटर) की त्रिज्या के साथ एक बड़ा धात्विक कोर है, जो ग्रह के त्रिज्या का लगभग 85 प्रतिशत है।

इस बात के सबूत हैं कि यह आंशिक रूप से पिघला हुआ या तरल है। बुध का बाहरी आवरण, पृथ्वी के बाहरी शेल (जिसे मैंटल और क्रस्ट कहा जाता है) के बराबर है, जो लगभग 400 किलोमीटर (250 मील) मोटी है।

बुध ग्रह के आंतरिक भाग में लोहा पाया जाता है। Budha Graha का चुम्बकीय बल पृथ्वी के मुकाबले लगभग 1% है।

नासा के अनुसार बुध ग्रह की वायुमंडलीय सतह में 42 प्रतिशत ऑक्सीजन, 29 प्रतिशत सोडियम, 6% हीलियम, 0.5% पोटैशियम एवं आर्गन तथा कार्बन डाइऑक्साइड, पानी, नाइट्रोजन, क्रीप्टोण, नीयन आदि गैस थोड़ी मात्रा में पाई जाती हैं।

इसे भी पढ़ें : Ohm’s Law In Hindi

बुध ग्रह का गठन – Formation of Mercury Planet

लगभग 4.5 बिलियन साल पहले बुध का निर्माण हुआ। जब गुरुत्वाकर्षण ने सूर्य के निकटतम इस छोटे ग्रह को बनाने के लिए घूमती हुई गैस और धूल को एक साथ खींचा। अपने साथी स्थलीय ग्रहों की तरह, बुध में एक केंद्रीय कोर, एक चट्टानी मैंटल और एक ठोस क्रस्ट है।

बुध ग्रह की सतह – Surface of Mercury Planet

बुध की सतह चंद्रमा से मिलती जुलती है, जो उल्कापिंडों और धूमकेतुओं से टकराव के परिणामस्वरूप होने वाले कई प्रभाव क्रेटरों से जख्मी है।

मर्करी पर क्रेटर्स और फीचर्स का नाम प्रसिद्ध कलाकारों, संगीतकारों या लेखकों के नाम पर रखा गया है, जिसमें बच्चों के डॉ० सेस और डांस अग्रणी एल्विन ऐली शामिल हैं।

बुध की सतह का अधिकांश भाग मानव आंखों के लिए भूरा-भूरा दिखाई देगा। उज्ज्वल धारियाँ “क्रेटर किरणें” कहलाती हैं। वे तब बनते हैं जब कोई क्षुद्रग्रह या धूमकेतु सतह से टकराता है।

बुध की सतह पर तापमान अत्यधिक गर्म और ठंडा दोनों प्रकार का होता है। दिन के दौरान, बुध की सतह पर तापमान 800 डिग्री फ़ारेनहाइट (430 डिग्री सेल्सियस) तक पहुंच सकता है।

क्योंकि ग्रह के पास उस गर्मी को बनाए रखने के लिए कोई वातावरण नहीं है। बुध की सतह पर रात का तापमान -290 डिग्री फ़ारेनहाइट (-180 डिग्री सेल्सियस) तक गिर सकता है।

इसे भी पढ़ें : जल का इतिहास

Important Information About Mercury Planet

  1. बुध ग्रह का चुंबकीय क्षेत्र पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का 1% है।
  2. बुध ग्रह सौरमण्डल का सबसे छोटा ग्रह है।
  3. Mercury Planet सौरमण्डल का दूसरा सबसे गर्म ग्रह है।
  4. सौरमण्डल में बुध तथा शुक्र ही ऐसे ग्रह हैं जिनका कोई उपग्रह नहीं है।
  5. सौरमंडल में सबसे कम गोलाकार और सबसे विलक्षण कक्षा बुध ग्रह की है।
  6. Mercury Planet को सूर्योदय से ठीक पहले और सूर्यास्त के ठीक बाद आसमान में देखा जा सकता है।
  7. बुध ग्रह सौरमंडल के उन पांच ग्रहों में से एक है जिन्हें आकाश में नग्न आंखों से देखा जा सकता है। अन्य चार ग्रह जिन्हें नग्न आंखों से देखा जा सकता हैं – शुक्र, मंगल, बृहस्पति और शनि।
  8. बुध ग्रह के वायुमंडल में पृथ्वी कि तरह मौसमी घटनाए नहीं होती।
  9. बुध ग्रह की सतह के नीचे पृथ्वी कि तरह ही टेकटोनिक प्लेट सक्रिय है, जिसके कारण इस Mercury Planet पर भी भूकंप से जुडी घटनाए होती रहती है।
  10. बुध ग्रह पर पाए जाने वाले  250 किलोमीटर से अधिक बड़े गड्ढे को बेसिन कहा जाता है।
  11. वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अवलोकन और आंकड़ों के अनुसार, बुध ग्रह आकार में लगातार सिकुड़ रहा है। बुध ग्रह के निर्माण से अब तक यह ग्रह 1.5 किमी व्यास जितना सिकुड़ चूका है।
  12. Mercury Planet का वातावरण जीवन के अनुकूल नहीं है।

इसे भी पढ़ें : 51 Science Question In Hindi

आशा करता हूँ दोस्तों इस लेख में आपको बुध ग्रह के बारे में सम्पूर्ण जानकारी ( Mercury Planet Information In Hindi ) मिली होगी| हमने इस लेख को आसान भाषा में लिखने का प्रयास किया है ताकि आपको किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो|

अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें| अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद|


Spread the love

Leave a Comment