विक्रम साराभाई जी का जीवन परिचय : Vikram Sarabhai Biography In Hindi

Spread the love

आज हम ऐसे व्यक्ति के बारे में जानेंगे जिन्हें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान के जनक के रूप में जाना जाता है, आप तो यह जानते हैं कि chandrayaan-2 में रोवर का नाम Vikram Sarabhai रखा गया था |

परंतु क्या आप जानते हैं कि विक्रम साराभाई कौन है ? Vikram Sarabhai एक ऐसा नाम है जिसे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान के प्रत्येक कार्य में जनक की उपाधि दी गई है |

Table of Contents

विक्रम साराभाई का जीवन परिचय – Vikram Sarabhai Biography In Hindi

विक्रम साराभाई जी का जन्म भारत के अहमदाबाद  राज्य में 12 अगस्त सन 1919 में हुआ | इनका  परिवार आर्थिक रूप से पूरी तरह से सक्षम था, क्योंकि इनका जन्म अहमदाबाद के एक उद्योगपति के घर में हुआ था |  उनके पिता का नाम अंबालाल साराभाई और माता का नाम सरला साराभाई था |

इसे भी पढ़ें: हरिवंश राय बच्चन का जीवन परिचय

विक्रम साराभाई की शिक्षा – Vikram Sarabhai Education

Vikram Sarabhai जी बचपन से ही विज्ञान में बहुत अधिक रूचि रखते थे, बाल्यकाल से ही विक्रम साराभाई प्रतिभावान थे और यही उनकी सफलता का मूल कारण बना | उन्होंने मैट्रिक की पढ़ाई सन 1934 में पास की और उसके बाद गुजरात कॉलेज से इंटर की पढ़ाई की |

आगे की पढ़ाई के लिए सन 1937 में वे कैंब्रिज विश्वविद्यालय इंग्लैंड चले गए और सन 1940 में कैंब्रिज विश्वविद्यालय से गणित व भौतिकी में बीएससी की परीक्षा में सफलता प्राप्त की | यह सफलता प्राप्त करने के बाद वापस भारत लौट आए |

भारत आते ही इन्हें देश के दो प्रतिभावान वैज्ञानिक डॉक्टर सी वी रमन और डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा के साथ काम करने का मौका मिला | सन 1942 में मृणालिनी स्वामीनाथन के साथ विवाह कर लिया | Vikram Sarabhai जी के 2  बच्चे थे | पुत्री जिनका नाम मल्लिका और बेटे का नाम कार्तिकेय था |

विक्रम साराभाई के कार्य

Vikram Sarabhai जी बचपन से ही प्रतिभावान थे उन्हें विज्ञान से बहुत लगाव था और विज्ञान के प्रति लगाव के कारण उन्होंने कई खोजे की | इनमें से प्रमुख अंतरिक्ष की गहराइयों से आने वाले रहस्यमई कॉस्मिक किरणों पर अनुसंधान किया जिसके बाद सन 1947 में कैंब्रिज विश्वविद्यालय से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की |

भारत में कॉस्मिक किरणों पर और अधिक खोज करने के लिए सन 1947 में भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला अहमदाबाद में स्थापित की | भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला में Vikram Sarabhai परमाणु शक्ति, सूर्य, ग्रह, तारा, प्लाज्मा भौतिकी, खगोल व अंतरिक्ष विकिरण पर अनुसंधान करते रहे |

इसे भी पढ़ें: सूरदास का जीवन परिचय

डॉ विक्रम साराभाई जी को सन 1961 में परमाणु ऊर्जा आयोग के सदस्य बन गए, और धीरे-धीरे अपनी कठिन परिश्रम से भारत में दूरसंचार मौसम विज्ञान दूरदर्शन इत्यादि के लिए अनेक उपग्रह अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक स्थापित किया |

डॉ Vikram Sarabhai जी अपना संपूर्ण जीवन भारत के विकास व विज्ञान के उन्नति में लगा दिया, उनकी मेहनत का ही परिणाम है कि उन्होंने कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय सम्मान प्राप्त किए |

डॉ विक्रम साराभाई जी सन 1966 में इंटरनेशनल काउंसिल आफ साइंटिफिक यूनियन के सदस्य बने व सन 1968 में संयुक्त राष्ट्र संघ यूनेस्को के विज्ञान विभाग के अध्यक्ष बने |

विक्रम साराभाई को मिले पुरस्कार

शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 1962

पद्मभूषण 1966

पद्म विभूषण 1972

इसे भी पढ़ें: शहीद भगत सिंह की जीवनी

विक्रम साराभाई द्वारा स्थापित अनुसंधान केंद्र

  • विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र तिरुवनंतपुरम
  • फास्ट ब्रीडर टेस्ट रिएक्टर (एफबीटीआर) कल्पकम
  • यूरेनियम कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल),बिहार
  • कम्युनिटी साइंस सेंटर अहमदाबाद
  • स्पेस एप्लीकेशन सेंटर अहमदाबाद
  • दर्पण अकैडमी फॉर परफॉर्मिंग आर्ट्स अहमदाबाद
  • भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) अहमदाबाद
  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) बैंगलोर
  • परमाणु ऊर्जा आयोग |

डॉ विक्रम साराभाई की मृत्यु – Vikram Sarabhai Death

21 दिसंबर 1971 को डॉ विक्रम साराभाई त्रिवेंद्रम के लॉन्चिंग स्टेशन थुंबा में कार्य कर रहे थे जहां उनकी हृदय गति रुकने से उनकी मृत्यु हो गई उनके निधन से विज्ञान में नित्य नए आयाम जोड़ने वाली कला हमेशा के लिए रुक गई |

FAQ About Vikram Sarabhai

Q. 1. विक्रम साराभाई जी का जन्म कब हुआ था ?

Ans. विक्रम साराभाई जी का जन्म भारत के अहमदाबाद राज्य में 12 अगस्त सन 1919 में हुआ |

Q. 2. विक्रम साराभाई केंद्र कहां है ?

Ans. विक्रम साराभाई केंद्र अहमदाबाद गुजरात में है |

Q. 3. विक्रम साराभाई जी का जन्म कहां हुआ था ?

Ans. विक्रम साराभाई जी का जन्म भारत के अहमदाबाद राज्य में 12 अगस्त सन 1919 में हुआ |

Q. 4. विक्रम साराभाई जी के पिता का नाम क्या था ?

Ans. विक्रम साराभाई जी के पिता का नाम अंबालाल सराभाई था |

Q. 5. विक्रम साराभाई जी के माता का नाम क्या था ?

Ans. विक्रम साराभाई जी के माता का नाम सरला साराभाई था |

Q. 6. विक्रम साराभाई जी की मृत्यु कब हुई ?

Ans. 21 दिसंबर 1971 को डॉ विक्रम साराभाई त्रिवेंद्रम के लॉन्चिंग स्टेशन थुंबा में कार्य कर रहे थे जहां उनकी हृदय गति रुकने थे मृत्यु हो गई |

Q. 7. विक्रम साराभाई जी ने किसकी खोज की ?

Ans. विक्रम साराभाई जी ने अंतरिक्ष की गहराइयों से आने वाले रहस्यमई कॉस्मिक किरणों पर अनुसंधान किया, और कॉस्मिक किरणों की खोज की जिसके उपरांत इन्हें पीएचडी की उपाधि मिली |

Q. 8. विक्रम साराभाई जी के बेटे का नाम क्या है ?

Ans. विक्रम साराभाई जी के दो बच्चे है, जिनमें बेटे का नाम कार्तिकेय और बेटी का नाम मल्लिका है |

Q. 9. विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र कहां है?

Ans. विक्रम साराभाई अंतरिक्ष Thiruvananthapuram, Kerala में है|

इसे भी पढ़ें: हिमा दास का जीवन परिचय

आशा करता हूँ दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट काफी पसंद आयी होगी तथा इस पोस्ट के माध्यम से आपको Vikram Sarabhai के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिल पाई होगी| अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद|


Spread the love

Leave a Comment