ध्वनि प्रदूषण पर निबंध – Noise Pollution Essay in Hindi

Spread the love

Noise Pollution यानी कि जिसे ध्वनि प्रदूषण के रूप में भी जाना जाता है, दुनिया में पाए जाने वाले सबसे बड़े प्रदूषणों में से एक है। विशेष रूप से भारत के शहरों और क्षेत्रों में ध्वनि प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। आज का हमारा निबन्ध Noise Pollution पर है |

ध्वनि प्रदूषण पर 100 शब्दों में निबंध – Noise Pollution Essay in Hindi

Noise Pollution मतलब कि ध्वनि प्रदूषण एक प्रकार का प्रदूषण है जो आजकल बहुत घातक हो गया है। यह प्रदूषण बढ़ता ही जा रहा है और असुरक्षित वातावरण बना रहा है।

ध्वनि प्रदूषण तब होता है जब ध्वनि का स्तर सामान्य स्तर से अधिक बढ़ जाता है। जब शोर की मात्रा अधिक हो जाती है, तो यह जीवों के लिए खतरनाक हो जाती है। इसके अलावा, ये अप्रिय आवाजें कई गड़बड़ी पैदा करती हैं और पर्यावरण में असंतुलन पैदा करती हैं।

ध्वनि प्रदूषण तब होता है जब ध्वनि का स्तर अपनी सामान्य सीमा से कहीं अधिक बढ़ जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, 70 डेसिबल से अधिक की किसी भी ध्वनि को खतरनाक माना जाता है और इससे जीवों पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: मेरे सपनों का भारत निबंध

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध 300 शब्द – Dhwani Pradushan

ध्वनि प्रदूषण, जिसे आमतौर पर ध्वनि प्रदूषण या पर्यावरणीय शोर के रूप में जाना जाता है, इस दुनिया में प्रदूषण का एक व्यापक रूप है। इस प्रकार के प्रदूषण में ध्वनि का प्रसार इस हद तक होता है कि यह मनुष्यों और जानवरों दोनों के लिए हानिकारक है।

उच्च मात्रा में शोर असामान्य हैं। जैसे-जैसे दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही है, वैसे ही ध्वनि प्रदूषण भी बढ़ रहा है। प्रौद्योगिकी ने लगभग हर चीज के लिए उपकरण बनाकर लोगों के लिए चीजों को आसान बना दिया है, परन्तु यही वह कारण है जो Noise Pollution को बढ़ा देती है |

जब भी हमारे परिवेश में ध्वनि का स्तर बढ़ जाता है, तो उसे शोर कहा जाता है, अनुमेय सीमा से अधिक हो जाता है, तो ध्वनि प्रदूषण शब्द का प्रयोग किया जाता है। ध्वनि की तीव्रता को डेसिबल (dB) में मापा जाता है और 70 dB के आसपास मापी गई किसी भी ध्वनि को शोर नहीं माना जाता है।

लेकिन, 70 से 75 डीबी से ऊपर की किसी भी ध्वनि को शोर माना जाता है क्योंकि इसका मानव स्वास्थ्य और पारिस्थितिकी तंत्र पर गंभीर प्रभाव पड़ता है। ।

ध्वनि प्रदूषण के प्रकार:

मानव निर्मित शोर
यह मानव निर्मित गतिविधियों के कारण उत्पन्न शोर को संदर्भित करता है। यह निर्माण कार्य, हवा से शोर, वाहनों के आवागमन, घरेलू शोर हो सकता है। 30 से लेकर 140 डीबी तक, शोर का यह रूप मनुष्यों के लिए बेहद हानिकारक है।

पर्यावरण शोर
पर्यावरणीय शोर का तात्पर्य उस प्रकार के शोर से है जो पर्यावरणीय गतिविधियों की एक श्रृंखला से उत्पन्न होता है।

Dhvni Pradushan के स्वास्थ्य के लिए कई खतरे हैं, और यह हमारी जिम्मेदारी होनी चाहिए कि इसके कारण हमारे पर्यावरण में और गिरावट को रोका जा सके। उच्च स्तर के शोर ने बहुत चिंता का कारण बना दिया है।

इसके कारणों, प्रभावों को समझना और उपयोगी रणनीतियाँ बनाना ही ऐसे साधन हैं जिनसे Dhwani Pradushan को कम किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: मेरा घर पर निबन्ध

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध 500 शब्द – Dhvni Pradushan Par Nibandh

ध्वनि प्रदूषण को अवांछित या अत्यधिक शोर के रूप में परिभाषित किया जाता है जो उस स्थान के आसपास के वातावरण में अशांति पैदा करता है। अत्यधिक ध्वनि नियमित रूप से सुनाई देती है और इसे उस विशेष वातावरण में रहने वाले लोगों पर नकारात्मक प्रभाव माना जाता है।

ध्वनि प्रदूषण का तात्पर्य उस वातावरण में शोर के विस्तार से है जिसमें हम रहते हैं। इसे Noise Pollution भी कहा जाता है। ध्वनि प्रदूषण मुख्य रूप से परिवहन, निर्माण कार्य, भारी मशीनरी और शहरी बस्तियों जैसी मानवीय गतिविधियों के कारण होता है।

ध्वनि प्रदूषण की गंभीरता और मनुष्यों और पर्यावरण पर इसके प्रभावों की अक्सर उपेक्षा की जाती है।

यह प्रदूषण का एक भौतिक रूप है जो भूमि, वायु या पर्यावरण के किसी अन्य तत्व को सीधे प्रभावित नहीं करता है।

हालांकि, यह हमारी आजीविका पर भारी असर डालता है। यह सीधे जीवों की पूरी आबादी को प्रभावित करता है, इस प्रकार हमारे दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में गड़बड़ी और असंतुलन पैदा करता है। प्रतिकूल प्रभावों को समझना महत्वपूर्ण है और यह समस्या किस कारण से आवश्यक समाधान के साथ आती है।

ध्वनि प्रदूषण के प्रकार


Noise Pollution के विभिन्न कारणों पर करीब से नज़र डालने से पहले, आइए हम पहले दो प्राथमिक प्रकार के शोर को समझें।

  1. मानव निर्मित शोर
    यह मानव निर्मित गतिविधियों के कारण उत्पन्न शोर को संदर्भित करता है। यह निर्माण कार्य, हवा से शोर, वाहनों के आवागमन, घरेलू शोर, पब और बार से शोर, कुछ भी हो सकता है। 30 से लेकर 140 डीबी तक, शोर का यह रूप मनुष्यों के लिए बेहद हानिकारक है।
  2. पर्यावरणीय शोर का तात्पर्य उस प्रकार के शोर से है जो पर्यावरणीय गतिविधियों की एक श्रृंखला से उत्पन्न होता है। यह जानवरों के संभोग कॉल से लेकर गरज की आवाज तक कुछ भी हो सकता है जो अक्सर 140 डीबी तक जाता है।

ध्वनि प्रदूषण के कारण – Dhwani Pradushan Ke Karan

  1. औद्योगीकरण : अधिकांश उद्योग बड़ी मशीनों का उपयोग करते हैं जो बड़ी मात्रा में शोर पैदा करने में सक्षम हैं। इसके अलावा, कम्प्रेसर, जनरेटर, एग्जॉस्ट फैन, ग्राइंडिंग मिल जैसे विभिन्न उपकरण भी बड़े शोर पैदा करने में भाग लेते हैं।
  2. शहरीकरण: अधिकांश विकासशील देशों में, खराब शहरी नियोजन भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भीड़भाड़ वाले घर, छोटे स्थान साझा करने वाले बड़े परिवार, पार्किंग को लेकर लड़ाई, बुनियादी सुविधाओं के लिए बार-बार होने वाले झगड़े से Dhwani Pradushan होता है, जो समाज के पर्यावरण को बाधित कर सकता है।
  3. परिवहन: सड़कों पर बड़ी संख्या में वाहन, घरों के ऊपर से उड़ने वाले हवाई जहाज, भूमिगत रेलगाड़ियाँ भारी शोर उत्पन्न करती हैं, और लोगों को इसका आदी होना मुश्किल लगता है। उच्च शोर एक ऐसी स्थिति की ओर ले जाता है जिसमें एक सामान्य व्यक्ति ठीक से सुनने की क्षमता खो देता है।

ध्वनि प्रदूषण कम करने के उपाय

ऐसे नियम स्थापित करना जिनमें निवारक और सुधारात्मक उपाय शामिल हों। ध्वनि प्रबंधन सुनिश्चित करने और Dhvni Pradushan को कम करने के लिए सरकारें कुछ क्षेत्रों, ग्रामीण इलाकों, प्राकृतिक रुचि के क्षेत्रों, शहर के पार्कों आदि की रक्षा करने जैसे उपाय कर सकती हैं। आवासीय क्षेत्रों और हवाई अड्डों जैसे शोर के स्रोतों के बीच अनिवार्य अलगाव।

शोर पैदा करने वाले उद्योग, हवाई अड्डे, वाहन आवासीय क्षेत्रों से दूर होने चाहिए क्योंकि यह शिशुओं और वरिष्ठ नागरिकों के लिए बहुत खतरनाक है। स्कूलों, अस्पतालों के पास शोर स्तर (साइलेंट जोन) पर नियंत्रण होना चाहिए। संवेदनशील क्षेत्रों के पास शोर-सीमा वाले बोर्ड लगाएं।

ध्वनि प्रदूषण जब एक निर्दिष्ट सीमा से अधिक हो जाता है, तो यह सुनने की हानि और गंभीर मानसिक गड़बड़ी का कारण बन सकता है। Dhvni Pradushan के प्रभावों को कम करने के लिए सामूहिक उपाय करने की आवश्यकता है।

स्रोत के साथ-साथ रिसीवर के अंत में व्यक्तियों को जिम्मेदारी लेनी चाहिए और क्रमशः शोर की पीढ़ी और स्वागत को कम करने के लिए आवश्यक उपाय करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:-

FAQ On Noise Pollution

Noise Pollution क्या है ?

ध्वनि प्रदूषण को अवांछित या अत्यधिक शोर के रूप में परिभाषित किया जाता है जो उस स्थान के आसपास के वातावरण में अशांति पैदा करता है। अत्यधिक ध्वनि नियमित रूप से सुनाई देती है और इसे उस विशेष वातावरण में रहने वाले लोगों पर नकारात्मक प्रभाव माना जाता है।

Noise Pollution के कितने प्रकार है ?

ध्वनि प्रदूषण के प्रकार
Noise Pollution के विभिन्न कारणों पर करीब से नज़र डालने से पहले, आइए हम पहले दो प्राथमिक प्रकार के शोर को समझें।
मानव निर्मित शोर
यह मानव निर्मित गतिविधियों के कारण उत्पन्न शोर को संदर्भित करता है। यह निर्माण कार्य, हवा से शोर, वाहनों के आवागमन, घरेलू शोर, पब और बार से शोर, कुछ भी हो सकता है। 30 से लेकर 140 डीबी तक, शोर का यह रूप मनुष्यों के लिए बेहद हानिकारक है।
पर्यावरण शोर
पर्यावरणीय शोर का तात्पर्य उस प्रकार के शोर से है जो पर्यावरणीय गतिविधियों की एक श्रृंखला से उत्पन्न होता है। यह जानवरों के संभोग कॉल से लेकर गरज की आवाज तक कुछ भी हो सकता है जो अक्सर 140 डीबी तक जाता है।

Noise Pollution रोकने के उपाय क्या है ?

Noise Pollution रोकने के उपाय:
ऐसे नियम स्थापित करना जिनमें निवारक और सुधारात्मक उपाय शामिल हों। ध्वनि प्रबंधन सुनिश्चित करने और Dhwani Pradushan को कम करने के लिए सरकारें कुछ क्षेत्रों, ग्रामीण इलाकों, प्राकृतिक रुचि के क्षेत्रों, शहर के पार्कों आदि की रक्षा करने जैसे उपाय कर सकती हैं। आवासीय क्षेत्रों और हवाई अड्डों जैसे शोर के स्रोतों के बीच अनिवार्य अलगाव।

मुझे उम्मीद है कि आपको यह निबन्ध (Noise Pollution Essay in Hindi) आपके लिए उपयोगी रहा होगा और आप भी Noise Pollution को रोकने में अहम योगदान देंगे |


Spread the love

Leave a Comment