डॉ० राजेंद्र प्रसाद पर निबंध – Dr. Rajendra Prasad Essay In Hindi

नमस्कार प्यारे दोस्तों, स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट में। आज के इस पोस्ट में हम भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेंद्र प्रसाद के बारे में जानेंगे। राजेंद्र प्रसाद एक भारतीय राजनेता, वकील और पत्रकार थे, जो भारत गणराज्य (1950-62) के पहले राष्ट्रपति थे।

इसीलिए आज के अपने लेख में हम आपके लिए डॉ राजेंद्र प्रसाद के बारे में एक अच्छा और सरल लेख लेकर आए हैं। हम आशा करते हैं कि इस निबंध को पढ़ने के बाद आप निश्चित रूप से राजेंद्र प्रसाद को जानने में सक्षम होंगे।

इस पोस्ट में आपको डॉ राजेंद्र प्रसाद पर कई निबन्ध दिए गए है जैसे डॉ राजेंद्र प्रसाद पर निबंध 100 शब्दों में, Essay On Dr Rajendra Prasad In Hindi 300 words, Rajendra Prasad par nibandh 500 शब्दों में तथा डॉ राजेंद्र प्रसाद से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर इत्यादि।

भारत के “रत्न” और बिहार के “गौरव” डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। वह करीब 10 साल तक इस पद पर रहे। इस काल में देश की अच्छी उन्नति हुई। उनकी सेवाएँ अमूल्य और अनेक हैं।

नाम डॉ राजेंद्र प्रसाद
जन्म तिथि 3 दिसंबर 1884
जन्म स्थान जीरादेई (बिहार)
पिता का नाम महादेव सहाय
माता का नाम कमलेश्वरी देवी
नागरिकताभारतीय
पत्नी का नाम राजवंशी देवी
शिक्षा कलकत्ता विश्वविद्यालय, प्रेसीडेंसी कॉलेज, टी.के. घोष अकादमी, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
किसके लिए जाने जाते हैप्रथम राष्ट्रपति, द्वितीय राष्ट्रपति, चंपारण में सत्याग्रह, समाज सुधारक, भारतीय दर्शन शास्त्र, लेखक
भाई1 बड़ा भाई
बहनें 3 बड़ी बहनें
पुरुस्कार भारत रत्न
डॉ राजेंद्र प्रसाद

डॉ राजेंद्र प्रसाद पर निबंध 100 शब्दों में

राजेंद्र प्रसाद (1884-1963) एक भारतीय वकील, राजनेता और स्वतंत्रता सेनानी थे, जिन्होंने 1950 से 1962 तक भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया।
उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में एक प्रमुख व्यक्ति थे। पक्ष महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी थे और उनके आंतरिक चक्र का हिस्सा थे।


वह एक सम्मानित नेता थे और भारतीय स्वतंत्रता के लिए अपनी अटूट प्रतिबद्धता के लिए जाने जाते थे। वह भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न के प्राप्तकर्ता थे।
भारत की स्वतंत्रता के बाद, उन्होंने भारत के राष्ट्रपति की भूमिका निभाई और भारत के संविधान को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वे लोकतंत्र के समर्थक और सामाजिक समानता के समर्थक थे।
वह अहिंसा के समर्थक थे और उनके भाषणों और लेखों ने बहुतों को प्रेरित किया। वह एक योग्य शासक था और सभी का सम्मान करता था।

डॉ राजेंद्र प्रसाद पर निबंध 300 शब्दों में

राजेन्द्र प्रसाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। उनका जन्म 3 दिसंबर 1884 को बिहार के जीरादेई में महादेव सहाय और कमलेश्वरी देवी के घर हुआ था। अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने बिहार और ओडिशा के उच्च न्यायालय में कानून का अभ्यास शुरू किया।
राजेंद्र प्रसाद भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भागीदार थे और महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी थे।

वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक महत्वपूर्ण नेता थे और 1934 और 1939 में इसके अध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया। वह संविधान सभा के एक महत्वपूर्ण सदस्य थे जिसने भारत के संविधान को तैयार किया था।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में राजेंद्र प्रसाद का प्रमुख योगदान था। वह असहयोग आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन, भारत छोड़ो आंदोलन का हिस्सा थे और इन आंदोलनों में भाग लेने के लिए उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा।


वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और ब्रिटिश सरकार के बीच एक महत्वपूर्ण वार्ताकार थे।
उन्होंने भारत की स्वतंत्रता से पहले 1946 में अंतरिम सरकार में खाद्य और कृषि मंत्री के रूप में भी कार्य किया।

भारत की स्वतंत्रता के बाद, वह भारत के पहले राष्ट्रपति बने और 1962 तक कार्यालय में रहे। वे लोकतंत्र के प्रबल समर्थक थे और भारत में लोकतांत्रिक संस्थानों को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।


उन्होंने लोगों के कल्याण के लिए भी काम किया और गरीबों और जरूरतमंदों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की शुरुआत की। भारत के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान के लिए उन्हें 1962 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
28 फरवरी 1963 को राजेंद्र प्रसाद का निधन हो गया और उन्हें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सबसे महत्वपूर्ण शख्सियतों में से एक के रूप में याद किया जाता है।

डॉ राजेंद्र प्रसाद पर लम्बा निबंध – Long Essay On Rajendra Prasad In Hindi

परिचय :-

राजेंद्र बाबू भारतीय संस्कृति और जनता के प्रतिनिधि हैं और सभी के प्रिय हैं। वे सादा जीवन और नेक सोच की जीती-जागती मिसाल हैं। उन्होंने जीवन भर भारतीय पोशाक पहनी, कभी विदेशी पोशाक नहीं, सादगी और प्रामाणिकता का प्रतीक। उसका आंतरिक जीवन बाहरी जैसा ही है। वे गांधी के प्रथम अनुयायी थे।

जन्म :-

राजेन्द्र बाबू का जन्म 3 दिसम्बर 1884 को बिहार के तत्कालीन सारण जिले (अब सीवान) के जीरादेई नामक गाँव में महादेव सहाय और कमलेश्वरी देवी के घर हुआ था।

डॉं० राजेंद्र प्रसाद का बचपन एवं शिक्षा :-

राजेंद्र प्रसादजी का जन्म 3 दिसंबर,1884 ई० को सारण जिले के जीरादेई नामक गाँव में हुआ था। उनके बड़े भाई श्री महेंद्र प्रसाद ने अपने छोटे भाई राजेंद्र प्रसाद का लालन-पालन किया था और ऊँची शिक्षा पाने में उनकी मदद की थी।
राजेंद्र बाबू ने पटना के टी० के० घोष एकेडमी में शिक्षा पाकर कलकत्ता विश्र्वविद्यालय से सन् 1900 में प्रथम श्रेणी में इंट्रेन्स परीक्षा पास की। इस परीक्षा में उन्हें सबसे अधिक अंक मिले। सारे देश में उनकी प्रशंसा हुई।

सन् 1906में उन्होंने एम० ए० की परीक्षा पास की और इसके बाद एम० एल० की परीक्षा भी। राजेंद्र बाबू अपनी सभी परीक्षाओं में सदा सर्वप्रथम होते रहे, यह उनकी शिक्षा और प्रतिभा की बहुमूल्य विशेषता है।


सभी उनकी योग्यता और विद्वता पर मुग्ध थे। सारे देश में उनका नाम फैल गया। शिक्षा समाप्त कर लेने के बाद राजेंद्र बाबू ने पहले कलकत्ता में, फिर पटना हाईकोट में वकालत शुरू की। इसमें उन्हें अच्छी सफलता मिली। वकालत चमक उठी। अच्छी आमदनी होने लगी।

क़ानून में मास्टर डिग्री :-

1915 में, राजेंद्र प्रसाद ने अपने एलएलएम के लिए स्वर्ण पदक प्राप्त किया। उसके बाद उन्होंने ज्यूरिस डॉक्टर की डिग्री के लिए भी अध्ययन किया। वह अब डॉ. राजेंद्र प्रसाद हैं। इन वर्षों के दौरान, राजेंद्र प्रसाद कई प्रतिष्ठित वकीलों, विद्वानों और लेखकों से मिले। राजेंद्र प्रसाद भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य बने। राजेंद्र प्रसाद के मन में राष्ट्रवाद ने जड़ें जमा लीं।

सेवाएँ :-

महान व्यक्ति अपने लिए नहीं बने हैं। 1917 में जब गांधीजी अंग्रेजों के खिलाफ चंपारण में जोर-शोर से बोल रहे थे, तब राजेंद्र बाबू गांधीजी से मिले और वे (राजेंद्र बाबू) गांधीजी के शिष्य बन गए। हालांकि उन्हें कई बार अस्थमा की बीमारी हो गई, लेकिन उन्होंने अपने देश के लिए कड़ी मेहनत करने में संकोच नहीं किया।


वह एक सच्चे, जोशीले, भावुक, ईमानदार और कड़ी मेहनत करने वाले व्यक्ति हैं। उसका शरीर पतला है, लेकिन उनकी आत्मा मजबूत है। उन्होंने बिहार में संगठित प्रयासों का नेतृत्व किया। पटना का ‘सदाकत आश्रम’ बिहार में कांग्रेस की जड़ें जमाने और हिंदू-मुस्लिम एकता को मजबूत करने में उनकी अथक सेवा का परिणाम है। 1906 में वे कांग्रेस में शामिल हो गए।

1911 में वे राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधि बने और 1912 में वे अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी कमेटी के सदस्य बने। इन वर्षों में, वह लंगट सिंह कॉलेज, मुजफ्फरपुर और सिटी कॉलेज, कलकत्ता और लॉ कॉलेज में प्रोफेसर रहे हैं।


1919 में रॉलेट एक्ट के खिलाफ अभियान गांधीजी की देखरेख में शुरू हुआ, जिसका राजेंद्र बाबू ने पूरे दिल से समर्थन किया। 1920 में स्वतंत्रता संग्राम, 1921 में असहयोग आंदोलन और 1922, 1939, 1940 और 1942 में विभिन्न राजनीतिक आंदोलनों में भाग लेने के लिए उन्हें कई बार जेल जाना पड़ा।


कई बार उन्हें पुलिस की बर्बरता का भी सामना करना पड़ा। 1947 में भारत की आजादी के बाद, राजेंद्र बाबू पहले खाद्य मंत्री और भारत के पहले राष्ट्रपति बने। 28 फरवरी, 1963 को, पवित्र भारतीय नायक सदा के लिए पुनर्जीवित हो गया।

भूकम्प और राहत कार्य :-

जनवरी 1934 में, बिहार में एक शक्तिशाली भूकंप आया। जान-माल का नुकसान बहुत बड़ा था। राजेंद्र प्रसाद अपनी बीमारी के बाद भी राहत कार्य में जुटे हुए हैं। वे अपने घरों को खोने वालों के लिए भोजन, कपड़े और दवाइयाँ एकत्र करते थे।
भूकंप के बाद बिहार में बाढ़ और मलेरिया आया। ऐसे में जनता की परेशानी बढ़ गई है। गांधी जी ने इस भूकंप और बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में राजेंद्र प्रसाद के काम का समर्थन किया।

स्वाधीनता संग्राम में उनका योगदान :-

राजेंद्र प्रसाद ने अन्य नेताओं के साथ राष्ट्र निर्माण का कठिन कार्य किया। उस समय उनके हृदय में राष्ट्रवाद की जो ज्वाला धधक रही थी, उसे कोई नहीं बुझा सका। राजेंद्र प्रसाद गांधी के कट्टर अनुयायी।


उन्होंने खुद को पूरी तरह से स्वतंत्रता संग्राम के लिए समर्पित कर दिया। उन्हें और पूरे भारत को गांधी के रूप में एक नया आंदोलन नेता और नागरिक प्रतिरोध और असहयोग के रूप में नए हथियार मिले।
हालांकि राजेंद्र प्रसाद का अखंड भारत का सपना बंटवारे से चकनाचूर हो गया, लेकिन भारत ने खून, पसीना और दर्द के बाद 15 अगस्त, 1947 को आजादी हासिल की।

पुरस्कार और अन्य तथ्य :-


1962 में, राजेंद्र प्रसाद को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न मिला। राजेंद्र प्रसाद एक विद्वान थे जिन्होंने अपने जीवन के दौरान आठ पुस्तकें प्रकाशित की:
  • 1922 में चंपारण में सत्याग्रह
  • भारत का विभाजन 1946
  • आत्मकथा बांकीपुर जेल में तीन साल की जेल अवधि के दौरान लिखी गई डॉ राजेंद्र प्रसाद की आत्मकथा थी
  • 1949 में महात्मा गांधी और बिहार, कुछ यादें
  • 1954 में बापू के कदमों में
  • 1960 में आजादी के बाद से
  • भारतीय शिक्षा
  • महात्मा गांधी के चरणों में प्रसाद

10 Lines On Rajendra Prasad In Hindi

  1. राजेंद्र प्रसाद एक भारतीय राजनीतिक नेता, वकील और भारत गणराज्य के पहले राष्ट्रपति थे।
  2. वह भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी थे, 1911 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए और पार्टी के कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे।
  3. प्रसाद अहिंसा में दृढ़ विश्वास रखने वाले, किसानों के अधिकारों के हिमायती और जमींदारी प्रथा के मुखर आलोचक हैं।
  4. वह संविधान सभा के अध्यक्ष चुने गए, जिसने भारत का संविधान तैयार किया, और 11 दिसंबर, 1946 से 26 जनवरी, 1950 तक संविधान सभा के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
  5. 29 अगस्त, 1947 से 28 नवंबर, 1949 तक, उन्होंने संविधान सभा के प्रारूप आयोग के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
  6. 1962 में, उन्हें भारत रत्न, भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान मिला।
  7. उन्होंने 1939 से 1948 तक बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कुलाधिपति के रूप में भी कार्य किया।
  8. वह एक विपुल लेखक थे और उन्होंने भारतीय दर्शन, धर्म और साहित्य सहित विभिन्न विषयों पर कई पुस्तकें प्रकाशित कीं।
  9. उनकी सादगी, बुद्धि और हास्य की भावना के लिए उनका बहुत सम्मान किया जाता था।
  10. वह एक कुशल गायक और वादक होने के नाते संगीत के प्रति अपने प्रेम के लिए भी जाने जाते हैं।

उम्मीद करता हूं दोस्तों की “डॉ राजेंद्र प्रसाद ( Dr Rajendra Prasad Essay In Hindi )” से सम्बंधित हमारी यह पोस्ट आपको काफी पसंद आई होगी। इस पोस्ट में हमनें डॉ राजेंद्र प्रसाद से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां देने का प्रयास किया है। आशा है आपको पूर्ण जानकारी मिल पाई होगी।

अगर आप यह पोस्ट आपको अच्छा लगा तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर कर सकते हैं। अगर आपके मन मे कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं हम आपसे जल्द ही संपर्क करेंगे। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद।

FAQ About Rajendra Prasad In Hindi

Q. डॉ राजेंद्र प्रसाद को भारत रत्न कब मिला?

Ans: 1950 में संविधान सभा की आखिरी बैठक में वे राष्‍ट्रपति चुने गए और 26 जनवरी, 1950 से 13 मई, 1962 तक देश के पहले राष्‍ट्रपति रहे। राष्ट्रपति बनने के बाद राजेंद्र प्रसाद ने कई सारे सामाजिक कार्य किए। 1962 में राष्ट्रपति पद से हट जाने के बाद उन्हें भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया।

Q. राजेंद्र प्रसाद का उपनाम क्या था?

Ans: डॉ राजेन्द्र प्रसाद का उपनाम अजातशत्रु था। उन्होने देश रत्न के उपनाम से भी पुकारा जाता था।

Q. डॉ राजेन्द्र प्रसाद कितनी बार राष्ट्रपति बने?

Ans: डॉ राजेन्द्र प्रसाद दो बार राष्ट्रपति बने।

Q. राजेंद्र प्रसाद जी का निधन कब और कैसे हुआ?

Ans: 1962 में, राजेंद्र प्रसाद को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” मिला। लगभग छह महीने तक चलने वाली एक संक्षिप्त बीमारी के बाद, 28 फरवरी, 1963 को डॉ प्रसाद का निधन हो गया।
मगर अगस्त 1961 को भयंकर बीमारी के बाद वे ठीक हो गए. राष्ट्रपति का कार्यकाल पूरा होने के बाद वे पटना आए थे. उस समय उनको मात्र 1100 रुपये पेंशन मिलती थी.
पटना के सदाक़त आश्रम में सेवानिवृत्त होने के बाद अपना जीवन गुज़ारा और 28 फरवरी, 1963 को यहीं उनकी मृत्यु भी हुई।