भारतीय किसान पर निबंध – Essay On Bhartiya Kisan In Hindi

नमस्कार प्यारे दोस्तों, स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट में। आज के इस पोस्ट में हम भारत के मेहनती किसानों के बारे में बात करेंगे। किसान खेतों में न केवल अपने लिए बल्कि, देश के सभी लोगों के लिए फसलें लगाकर दिन-रात मेहनत करते हैं।

इसीलिए आज के अपने लेख में हम आपके लिए भारतीय किसानों के बारे में एक अच्छा और सरल लेख लेकर आए हैं। हम आशा करते हैं कि इस निबंध को पढ़ने के बाद आप निश्चित रूप से भारतीय किसानों को जानने में सक्षम होंगे।

इस पोस्ट के माध्यम से आप जान पाएंगे की किसान कौन है, आज भारतीय किसान की क्या स्थिति है, भारतीय किसानों की क्या समस्याएं हैं, भारतीय किसान किस प्रकार अपना जीवन यापन कर रहे हैं तथा किसान हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

इस पोस्ट में आपको भारतीय किसान पर कई निबन्ध दिए गए है जैसे भारतीय किसान पर निबंध 100 शब्दों में, Essay On Indian Farmer In Hindi 300 words, Bhartiya Kisan par nibandh 500 शब्दों में तथा भारतीय किसान से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर इत्यादि।

भारतीय किसान पर निबंध 100 शब्दों में

भारतीय किसान हमारे देश की रीढ़ है। वे हमें और हमारे परिवारों को खिलाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। वे ही हैं जो यह सुनिश्चित करते हैं कि हमारी थाली में हर दिन भोजन हो। वे वे हैं जो दिन-रात खेतों में मेहनत करते हैं, हर तरह के मौसम में, हमें जीवित रहने के लिए आवश्यक भोजन लाने के लिए।

उनके बिना, हम खो जाएंगे। हम जीवित नहीं रह पाएंगे। वे हमारे देश के गुमनाम नायक हैं। और हम उनका सब कुछ एहसानमंद हैं। खेतों में काम करने के बाद भी किसान चिलचिलाती धूप से परेशान नहीं होता हैं। इसी तरह किसान भारी बारिश और ठंड के मौसम के बावजूद अपना कृषि कार्य जारी रखता है। किसान के जीवन में कोई आराम नहीं है।

भारतीय किसान पर निबंध 300 शब्दों में

त्याग और तपस्या का दूसरा नाम है किसान। वह जीवन भर मिट्‌टी से सोना उत्पन्न करने की तपस्या करता रहता है । किसान की कृषि ही शक्ति है और यही उसकी भक्ति है ।
वह देशभर को अन्न, फल, साग, सब्जी आदि दे रहा है लेकिन बदले में उसे उसका पारिश्रमिक तक नहीं मिल पा रहा है ।

किसान हमें भोजन देने के अलावा भारतीय संस्कृति और सभ्यता की रक्षा कर रहे हैं। यही कारण है कि भारतीय संस्कृति और सभ्यता शहरों की अपेक्षा गाँवों में अधिक स्पष्ट है।
वह दिन भर कड़ी मेहनत करता है। वह प्राय: नहाता और भोजन आदि खेतों में ही करता है। संध्या के समय वह हल को अपने कंधों पर लादकर बैलों को हांकता हुआ घर लौटता है।

अशिक्षा, अंधविश्वास तथा समाज में व्याप्त कुरीतियां उसके साथी हैं । सरकारी नौकर, बड़े जमींदार, बिचौलिए और व्यापारी उसके दुश्मन थे जिन्होंने जीवन भर उसका शोषण किया।
आज भी वह जमींदारों के शोषण से मुक्ति पाकर आजादी पाकर पूरी तरह संतुष्ट नहीं है। आज भी 20 या 25 प्रतिशत किसान दो समय के भोजन के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
शरीर ढकने के लिए कपड़े नहीं है। जर्जर मकान और टूटी हुई झोपड़ियाँ आज भी उनके महल हैं।

आजादी के बाद किसानों के जीवन में कुछ खुशियां लौटीं हैं। सरकार ने खुद ही किसानों पर ध्यान देना शुरू कर दिया है। उनके अभावों को कम करने के प्रयास में कई योजनाएं सरकार द्वारा चलाई जा रही हैं ।


हमारे देश में ऐसे कई महान नेता हुए हैं जिन्होंने किसानों की दशा सुधारने के लिए सराहनीय कदम उठाए, इसी कड़ी में हमारे पूर्व प्रधानमंत्रियों चौधरी चरण सिंह और लाल बहादुर शास्त्री के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। वे एक किसान परिवार से हैं। इसलिए उन्होंने किसानों की सही कीमत को समझा और उनके हित के लिए कई सराहनीय कदम उठाए जिसका लाभ उन्हें आज भी मिला है।

इसके अलावा उन्हें रियायती दर पर उन्हें अच्छी गुणवत्ता वाले बीज, आधुनिक कृषि यंत्र, उर्वरक आदि उपलब्ध कराये जा रहे हैं । उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार करने और व्यावसायिक खेती शुरू करने के लिए सरकार बहुत कम ब्याज दरों पर ऋण प्रदान करती है।
खेतों में सिंचाई के लिए नहर व नलकूप का निर्माण कराया जा रहा है। इन सभी कारणों से किसानों के जीवन स्तर में काफी सुधार हुआ है। उनकी आर्थिक स्थिति भी काफी मजबूत हुई है।

भारतीय किसान पर लम्बा निबंध

हम सभी को अपनी भूख मिटाने और जीवन बचाने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। किसान हमारे अन्नदाता हैं, वे हमारे लिए अन्न पैदा करते हैं। वे अच्छी फसल के लिए साल भर काम करते हैं और धैर्यपूर्वक इसके आने की प्रतीक्षा करते हैं।

किसान कौन है या किसान का अर्थ

किसान :- किसान का अर्थ है ‘कृषि क्षेत्र का मालिक या प्रबंधक’| कृषि और कृषि के काम से जुड़े लोगो को किसान कहा जाता है। किसान ही वह इंसान है,जो सूरज की तेज गर्मी,बारिश या तेज ठण्ड की परवाह किये बिना ही वह अपने खेतों पर फसलों को अपनी मेहनत से उगाने का काम करते हैं। ये हमारे लिए जीवन-रक्षक और किसानों को देश का अन्नदाता कहा जाता है

भारतीय किसान हम भारतवासियों के लिए ईश्वर के समान है।

एक कृषि प्रधान देश के रूप में, भारत की लगभग 60% आबादी अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है। भारतीय किसान अपनी जिम्मेदारी से पूरी तरह वाकिफ हैं। इसलिए जब तक कोई आपात स्थिति न हो, उन्हें एक भी दिन की छुट्टी नहीं मिलती है।
वे साल भर सुबह से रात तक खेतों में काम करते हैं,चाहे सर्दी हो,गर्मी हो या बारिश। कृषि ग्रामीण भारत की रीढ़ है। भारत को किसानों का देश कहा जाता है क्योंकि भारत की अधिकांश जनसंख्या किसान है। ये मेहनती किसान विभिन्न तरीकों से देश की अर्थव्यवस्था में योगदान करते हैं।

भारतीय किसान भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी हैं। वे राष्ट्रीय खाद्य और अन्य कृषि उत्पादक हैं। भारतीय किसान दुनिया के सबसे व्यस्त और सबसे अधिक उत्पादक लोगों में से हैं।
वे यह सुनिश्चित करने के लिए चौबीसों घंटे काम करते हैं कि स्थानीय भोजन अधिक से अधिक लोगों को खिलाए। अर्थव्यवस्था की रीढ़ होने के बावजूद, भारतीय किसान देश के सबसे गरीब और सबसे गरीब लोगों में से हैं। उन्हें कई बार असफलताओं और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी।

उनका पूरा जीवन उनके द्वारा लिए गए कृषि ऋण को चुकाने में बीत गया। समाज में सम्मानित किसानों की स्थिति वास्तव में चिंताजनक और दर्दनाक है। भारत सरकार ने किसानों के लाभ के लिए कई पहल की हैं, लेकिन अभी और काम करने की जरूरत है।
हमारी सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें वह सम्मान दिया जाए जिसके वे वास्तव में हकदार हैं।

किसान की मुश्किलें क्या – क्या है?

किसानों को जीवन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है, हर बार सरकार नई सेवाएं दे रही है, उनके साथ धोखा हो रहा है.
इस प्रकार किसानों को इस सेवा का पूरा लाभ न मिल पाने के कारण अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

जब भी कोई किसान अनाज उगाता है तो कभी बारिश, तूफान, आग आदि प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसलों को नुकसान पहुंचता है और इससे किसान को काफी नुकसान होता है। और यहां भी किसानों को मुआवजा देने में धांधली हो रही है। सरकार ने हमेशा किसानों को बहुत लाभ पहुंचाया है, लेकिन सरकार इन मुद्दों पर ध्यान नहीं दे रही है। कि किसानों को हम जो सुविधा दे रहे हैं वह सुविधा उनके पास पहुंच रही है या नहीं।

भारतीय किसान निरक्षरता के कारण कृषि से संबंधित नई तकनीकों से वंचित थे। जो उसे जानते हैं, गरीबी के कारण वे इन तकनीकी साधनों का उपयोग भी नहीं कर पा रहे हैं।
सिंचाई के लिए वर्षा पर आश्रित होना इनकी नियति हो गयी है। इन कारणों से अच्छी फसल नहीं मिल पाती जो इन्हें गरीबी में जीने को मजबूर करती है और अपने परिवार के लिए प्रयाप्त कपडे पौष्टिक भोजन आवश्यक चिकित्सा और शिक्षा के साधन भी नहीं जुटा पाते है। अपने जीवन स्तर को सुधारने के लिए कुछ किसान अब खेती छोड़कर शहरों की ओर रुख कर रहे हैं।

किसानो के लिए योजना

अब सरकार ने भी किसानों के लिए काफी योजनाएं शुरू की है जिनमे से कुछ नीचे बताई गई है

  1. Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana (PMFBY)
  2. Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana (PMKSY)
  3. Pradhan Mantri Awas Yojana (PMAY)
  4. Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana (PMJDY)
  5. Pradhan Mantri Gramin Awaas Yojana (PMGAY)
  6. Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (PMSBY)
  7. Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana (PMJJBY)
  8. Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana (PMKVY)
  9. Pradhan Mantri Ujjwala Yojana (PMUY)
  10. Swachh Bharat Abhiyan (SBA)

Conclusion

मुझे यह कहते हुए खेद है कि भारत में किसानों की आर्थिक स्थिति खराब है। भारत का किसान आर्थिक रूप से बहुत ही कमजोर हैं। सारा दिन खेतों में मेहनत कर फसल उगाने वाला यही किसान बड़ी मुश्किल से अपने परिवार को दो वक्त की रोटी दे पाता हैं। हम सभी ने पैसे की कमी और कर्ज से दबे होने के कारण कई किसानों की आत्महत्या की खबरों के बारे में अवश्य ही सुना होगा।
जो हमारे देश का अन्नदाता है, उसे अपने बच्चों की पढाई, उनकी शादी, खेती के बीज व घर में खाने के लिए साहूकारों और बैकों से सूत पर पैसे लेने पड़ते है।

किसान बहुत ही ज्यादा मेहनत करता है तब जाकर कोई अनाज तैयार होता है, और हमारे देश में अनाज की बहुत ज्यादा बर्बादी भी हो रही है अगर उस अनाज के पीछे कोई मेहनत की कद्र कोई करें तो वह अनाज नहीं फेकेगा।
इस प्रकार हम कह सकते हैं कि भारतीय किसान बहुत ही दयनीय अवस्था में रहकर अपने देश के लोगों को अनाज की पूर्ति करता है।
देश के लोगों का यह कर्तव्य है कि वे किसान भाइयों की मेहनत को व्यर्थ ना जाने दे शादियों त्योहारों और उत्सवों के दौरान होने वाली खाने की बर्बादी को रोककर हम उनके मेहनत की सराहना कर सकते हैं।

इन्हे भी पढ़ें:-

उम्मीद करता हूं दोस्तों की “भारतीय किसान ( Bhartiya Kisan Essay In Hindi )” से सम्बंधित हमारी यह पोस्ट आपको काफी पसंद आई होगी। इस पोस्ट में हमनें किसान से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां देने का प्रयास किया है। आशा है आपको पूर्ण जानकारी मिल पाई होगी।

अगर आप यह पोस्ट आपको अच्छा लगा तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर कर सकते हैं। अगर आपके मन मे कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं हम आपसे जल्द ही संपर्क करेंगे। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद।

FAQ About Bhartiya Kisan In Hindi

Q.1. भारतीय किसान यूनियन की स्थापना कब हुई थी?

Ans: भारतीय किसान संघ की स्थापना 4 मार्च 1979 को शहर में हुई थी।

Q.2. भारतीय किसान यूनियन के प्रमुख नेता कौन थे?

Ans: भारतीय किसान यूनियन के प्रमुख नेता श्री दत्तोपंतजी ठेंगडी थे। वह एक महान भारतीय दूरदर्शी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध श्रमिक नेता थे। उन्होंने अपने अद्वितीय संगठनात्मक कौशल के साथ इस संगठन को भारत में किसानों के पुनरुत्थान के लिए एक वास्तविकता बना दिया।

Q.3. भारतीय किसान की वर्तमान स्थिति क्या है?

Ans: भारतीय किसानों की हालत बहुत खराब है। पर्याप्त संसाधनों के साथ-साथ उन्हें अच्छा वेतन भी मिलता है।
किसानों को बचाने के लिए हमारी सरकार उन्हें तरह-तरह के फायदे देने की कोशिश कर रही है। सरकार उन्हें सालाना 6,000 रुपये पेंशन भी देती है। इसके अलावा, ग्लोबल वार्मिंग उनकी खराब स्थिति के प्रमुख कारणों में से एक है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण सीजन में देरी हो रही है। विभिन्न फसलों के पकने के अपने-अपने मौसम होते हैं। फसलों को बढ़ने के लिए सही मात्रा में धूप और बारिश की जरूरत होती है, इसलिए उन्हें पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं।

Q.4. भारतीय किसान के कष्ट क्या – क्या है?

Ans: किसान जीवन भर फसल लगाते हैं, लेकिन वे कड़ी मेहनत करते हैं, लेकिन उन्हें वह फसल नहीं मिल पाती है जिसके वे हकदार होते हैं। वे अच्छी फसल के लिए साल भर काम करते हैं और धैर्यपूर्वक इसके आने की प्रतीक्षा करते हैं। वह बार-बार चक्र दोहराता है, लेकिन उसे अपने परिश्रम का सही फल कभी नहीं मिलता है। पूरे देश को तरह-तरह के भोजन उपलब्ध कराने के बाद भी किसान बहुत सादा भोजन करते थे और सादा जीवन व्यतीत करते थे। वे खेतों में उगाई गई फसल को बेचकर अपना गुजारा करते हैं। यह छोटी सी कीमत उनके वर्षों के श्रम और आय के रूप में आती है।

Q.5. किसान हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

Ans: हम सभी को अपनी भूख मिटाने और जीवन बचाने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। किसान हमारे अन्नदाता हैं, वे हमारे लिए अन्न पैदा करते हैं। वे अच्छी फसल के लिए साल भर काम करते हैं और धैर्यपूर्वक इसके आने की प्रतीक्षा करते हैं।
एक कृषि प्रधान देश के रूप में, भारत की लगभग 60% आबादी अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है। कृषि ग्रामीण भारत की रीढ़ है। हालांकि भारतीय किसान अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, लेकिन वे दुनिया में सबसे व्यस्त और सबसे अधिक उत्पादक हैं।