एसडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है SDM Kaise Bane?

Spread the love

दोस्तों, क्या आप भी एक अच्छी सरकारी नौकरी की तलाश करें, तो दोस्तों यह आर्टिकल आपके लिए है | इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि एसडीएम क्या होता है ? SDM ka full form क्या है ? एसडीएम कैसे बने ? और एसडीएम के कार्य क्या हैं ?

दोस्तों आज के समय में एक अच्छी सरकारी नौकरी पाना सभी चाहते हैं और वैसे भी इसकी तैयारी भी बहुत अच्छी तरीके से करते हैं, परंतु हमारे समाज में कुछ ऐसी सरकारी नौकरी है जिसे बहुत ही सम्मानित माना जाता है और यह देश के प्रति विकास के लिए बहुत ही लाभदायक होता है, इस सम्मानित सरकारी नौकरियों में एसडीएम भी शामिल है | यदि आप एक एसडीएम ऑफिसर बनते हैं तो आपको समाज में सम्मानित व प्रतिष्ठित व्यक्ति के रूप में देखा जाता है |

यदि आप देश के प्रति अपनी सेवा समर्पित करना चाहते हैं तो आपको जरूर एसडीएम बनने की तैयारी करनी चाहिए, हम आपको बताएंगे कि एक एसडीएम ऑफिसर क्या होता है ? और एसडीएम ऑफिसर कैसे बने ?

इसे भी पढ़ें: SDO क्या होता है? SDO Kaise Bane

SDM क्या होता है

हम सभी जानते हैं कि एक जिले को संभालने के लिए और उसके कार्यों को क्रियान्वित करने के लिए एक डीएम ऑफिसर होता है जिसे हम जिला अधिकारी के रूप में भी जानते हैं, ठीक उसी प्रकार जिलों को भी कई उपखंड हो या विकास खंडों में विभाजित किया जाता है |

इन्हीं उपखंड और विकास खंडों के वरिष्ठ अधिकारी को ही एसडीएम के रूप में जाना जाता है, इन सभी विकास खंडों के जितने भी तहसीलदार होते हैं, वे पूरी तरीके से एसडीएम के अधीन कार्य करते हैं और उन पर प्रत्यक्ष नियंत्रण होता है अर्थात जिले के सभी उपखंड का नेतृत्व एसडीएम ही करता है |

SDM Ka Full Form

एसडीएम का फुल फॉर्म सब डिविजनल मजिस्ट्रेट या सब डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट होता है , जिसे हिंदी में उप प्रभागीय न्यायाधीश या उप जिलाधिकारी भी कहा जाता है |

चलिए अब बात करते हैं एसडीएम के कार्य क्या होते हैं:

SDM के कार्य

जैसा कि मैंने आपको बताया कि एसडीएम जिले के उपखंड का उच्च विभागीय अधिकारी होता है इसलिए उसके कार्य और शक्तियां भी अधिक होती है |

  • एक एसडीएम का प्रमुख कार्य राजस्व के कार्यों को संचालित करना है, इसके अंतर्गत एसडीएम भूमि की देखरेख, सीमांकन, सार्वजनिक भूमि की संरक्षक इत्यादि कार्य सम्मिलित हैं | इसके लिए तहसीलदार व अन्य राजस्व  कर्मचारी एसडीएम के कार्यों में सम्मिलित रहते हैं |
  • हमारे राज्य में कई बार प्राकृतिक आपदाएं आ जाती हैं जिससे कि इसका बुरा प्रभाव हमारे दैनिक जीवन पर पड़ता है, इसलिए एसडीएम की जिम्मेदारी होती है कि वह प्राकृतिक आपदाओं का प्रबंधन करे व पुनर्वास की समस्या भी दूर करें |
  • एसडीएम को कई प्रकार की शक्तियां प्राप्त है जिनका उपयोग कर वे किसी व्यावहारिक मुद्दों पर अपना फैसला सुना सकता है |

इसे भी पढ़ें: बीडीओ क्या होता है? BDO Kaise Bane?

SDM कैसे बने

एसडीएम एक वरिष्ठ अधिकारी का पोस्ट होता है, जो अपने कार्यों को क्रियान्वित कर देश के विकास की तरफ जोर देता है, हर साल कई युवा अपने इस सपने को साकार करने के लिए एसडीएम की पोस्ट के लिए आवेदन भरते हैं | परंतु उनमें कुछ ही अपने सपने को साकार कर पाते हैं चलिए जानते हैं कि आखिर आप एक एसडीएम ऑफिसर कैसे बन सकते हैं ?

एसडीएम ऑफिसर बनने की मुख्य रूप से दो प्रक्रियाएं होती है:

UPSC

यह पहली प्रक्रिया है जिसके जरिए आप एक एसडीएम ऑफिसर बन सकते हैं, UPSC प्रत्येक वर्ष IAS के पद के लिए परीक्षाएं करवाती है | यह परीक्षाएं तीन चरणों में होती है: प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार | आप इन तीनों परीक्षाओं को पास करके एक आईएएस ऑफिसर बन सकते हैं और IAS ऑफिसर के रूप में आप की पहली पोस्टिंग एसडीएम के रूप में की जाती है |

PCS

यह दूसरी प्रक्रिया है, यह भी एसडीएम पद के चयन के लिए परीक्षाएं करवाती है, PCS में भी 3 चरण होते हैं: प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार | इन तीनों परीक्षाओं को क्लियर करके आप एक SDM ऑफिसर बन सकते हैं |

SDM ऑफिसर बनने के लिए Qualification

एक एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होना जरूरी है | आपकी ग्रेजुएशन किसी भी फील्ड में हो सकती है जैसे इंजीनियरिंग, मेडिकल, कॉमर्स, आर्ट, एग्रीकल्चर   |

SDM का Exam

जैसे कि मैंने आपको बताया की एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए 3 चरणों में परीक्षाएं होती है:

1. प्रारंभिक परीक्षा

यह पहली परीक्षा होती है जो सिर्फ क्वालिफिकेशन के लिए होती है | इसमें आपको दो प्रश्न पत्र मिलते हैं और दोनों ही objective टाइप के होते हैं, मुख्य परीक्षा में शामिल होने के लिए आपको प्रारंभिक परीक्षा में कम से कम 33% अंक लाने अनिवार्य है |

सामान्य ज्ञान-1  200 Marks

सामान्य ज्ञान-2  200 Marks

2. मुख्य परीक्षा

आप मुख्य परीक्षा में तभी शामिल हो सकते हैं, जब आपने प्रारंभिक परीक्षा क्लियर की हो | यह परीक्षा लिखित रूप में होती है और प्रारंभिक परीक्षा से थोड़ी कठिन होती है |

हिंदी                150 अंक

निबंध               150 अंक

सामान्य अध्ययन 1            200 अंक

सामान्य अध्ययन 2            200 अंक

सामान्य अध्ययन 3            200 अंक

सामान्य अध्ययन 4            200 अंक

वैकल्पिक विषय पेपर 1   200 अंक

वैकल्पिक विषय पेपर 2   200 अंक

3. साक्षात्कार

प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा क्लियर करके आप अगले चरण के लिए आगे बढ़ते हैं इसमें आपका साक्षात्कार होता है, साक्षात्कार में बहुत सारी विषयों के बारे में प्रश्न किया जाता है |

आप इन तीनों परीक्षाओं को पास करके एक SDM ऑफिसर बन सकते हैं |

SDM Ki Sallery

एक SDM ऑफिसर की सैलरी की शुरुआत 53,000 से  67700 रूपए तक होती है यह अलग-अलग राज्यों के लिए निर्धारित होता है और एसडीएम की अधिकतम सैलरी 1 लाख से 1.50 लाख के बीच में हो सकती है |

इसे भी पढ़ें: Ias Kya Hota Hai, Ias Kaise Bane?

एसडीएम की तैयारी कैसे करें

जैसा कि मैंने आपको बताया कि आप को सर्वप्रथम किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होना जरूरी है | इसके बाद ही आप एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए पात्रता प्राप्त करते हैं |

एसडीएम की तैयारी के लिए आपको UPSC या PCS के सिलेबस से अवगत होना बहुत जरूरी है | उसके अनुसार ही आपको प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार के लिए तैयारी करनी होगी |

मुख्य परीक्षा और प्रारंभिक परीक्षा के सिलेबस लगभग समान होते हैं, इसलिए अगर आप मुख्य परीक्षा की तैयारी करते हैं तो आपकी प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी भी हो जाती है |

मैं आशा करता हूं कि आपको हमारा ये आर्टिकल SDM Kon Hota Hai or SDM Kaise Bane पसंद आया होगा और आपके सभी सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे | मैं आपके उज्जवल भविष्य की प्रार्थना करता हूं |


Spread the love

Leave a Comment