IAS banne ke liye subject | जो विषय आईएएस के लिए महत्वपूर्ण है।

IAS banne ke liye subject, आईएएस बनने के लिए सब्जेक्ट, ias ki taiyari ke liye subject: नमस्कार दोस्तों, आपको भारत में होने वाली सबसे बड़ी परीक्षा के बारे में पता होना चाहिए कि इसकी लिए तैयारी कैसे की जाती है और इसके लिए क्या स्टेप्स लेने पड़ते हैं। देश के अंदर होने वाली इस सिविल सर्विस परीक्षा (Civil service Exam) को पास करना बहुत से छात्र का सपना होता है। इस परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले आवेदकों के मन में यह दुविधा होती है कि उन्हें क्या पढ़ना है? और उसे किन विषयों का अध्ययन करना है? ताकि उनके लिए यह दिशा आसान हो सके और उनके सपनों को एक नई उड़ान मिल सके।

ये परीक्षा देने से पहले जो विषय आईएएस के लिए महत्वपूर्ण है, उसे जान लेना बहुत जरुरी है। इस विषय के बारे में जानने से पहले हमें यह जान लेना चाहिए कि सिविल सेवा का पाठ्यक्रम क्या है? सिविल की परीक्षा पास करने का तरीका क्या है? पहले आपको इस तरह के सवालों के जवाब जानने होंगे, फिर आपको इससे जुड़े सब्जेक्ट और उससे जुड़ी किताबों (ias ki taiyari ke liye subject) के बारे में भी बताया जा सकता है।

Contents show

IAS की परीक्षा क्या है?

यह परीक्षा भारत सरकार द्वारा हर साल आयोजित की जाने वाली परीक्षा है, जिसके द्वारा देश का शासन चलाने में मदद करने वाले अलग अलग विभाग के उच्च अधिकारियों को चुना जाता हैं। वैसे तो इसे UPSC की परीक्षा कहा जाता है, लेकिन आम भाषा में लोग इसे IAS की परीक्षा कहते है। इसे देश की सबसे कठिन परीक्षा में से एक माना जाता है। आईएएस बनने के लिए सब्जेक्ट कौन से लेना चाहिए, (IAS banne ke liye subject) आदि जानने से पहले इसके परीक्षा के पाट्यक्रम और ये परीक्षा कैसे आयोजित करायी जाती है, के बारे में जाना बहुत जरूरी है। तो आइए जानते है इस परीक्षा से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण पहलू को..

IAS का एग्जाम कैसे होता हैं ? | IAS ka Exam kaise hota hai ?

आपको बता दें कि इस परीक्षा के विशेष रूप से 3 स्तर होते हैं – प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और इसमें चुने जाने वाले अभ्यर्थी का इंटरव्यू और उसके बाद अंतिम चयन होता है।

प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam)

यह इस परीक्षा का प्रथम चरण है। इस परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल होते हैं। इसके बाद जो लोग इस परीक्षा को पास कर लेते हैं वे इस परीक्षा के अगले चरण में जाते हैं। यह परीक्षा वस्तुनिष्ठ (Objective) होती है।

मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

प्रारंभिक परीक्षा में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की संख्या में से, कुल उम्मीदवारों में से 15 प्रतिशत मुख्य परीक्षा में उपस्थित होते हैं। इसके बाद इन सभी की मुख्य परीक्षा होती है। यह एक लिखित परीक्षा है। इसके बाद अगला चरण इंटरव्यू का होता है।

साक्षात्कार (Interview)

मुख्य परीक्षा को पास करने वाले आवेदकों के साक्षात्कार के लिए कुल पद के दो गुना अधिक छात्रों को साक्षात्कार (Interview) के लिए बुलाया जाता है। उसके बाद अंकों को जोड़कर अंतिम आवेदकों (Final Candidates)। की सूची तैयार की जाती है। इन प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद आवेदक को IAS, IFS, IPS, IFos, IRS आदि पदों पर नियुक्त किया जाता है और उनको फाउंडेशन कोर्स के तहत ट्रेनिंग दी जाती है। जो की परीक्षा में सफल सभी छात्रों के लिए मसूरी LBSNAA (Lal Bahadur Shastri National Administration Academy) में आयोजित की जाती है।

आईएएस परीक्षा पाठ्यक्रम (IAS Exam Syllabus)

अगर इस परीक्षा के सिलेबस की बात करें तो इसका सिलेबस काफी खास है और यही नहीं, इस परीक्षा के लिए आपको एक नहीं बल्कि कई विषयों को पढ़ना होगा। इसके पाठ्यक्रम में उन सभी विषयों को शामिल किया गया है जिनका स्कूल और कॉलेज के दौरान अध्ययन किया जाता है।

अगर आप आज से ही या इसी साल से आईएएस की तैयारी करना चाहते हैं तो हम उम्मीद कर रहे हैं कि आपने अपनी ग्रेजुएशन पूरी कर ली है या कर रहे हैं। क्योंकि आगे के बिंदु पर हम आपको आईएएस के लिए कठिनाई के बारे में बता रहे हैं। आईएएस परीक्षा देने के लिए आपको 3 प्रकार के विषयों की जांच करने की आवश्यकता है जिसमें –

क्वालीफाइंग सब्जेक्ट्स (Qualifying Subjects)

इसमें वे टॉपिक्स हैं जिन्हें आपको इस परीक्षा के प्रथम चरण को बस क्लियर करने के लिए पढ़ेंगे, यानी आपको इसमें केवल निर्धारित संख्या प्राप्त करनी है। जैसे प्रारंभिक परीक्षा में जीएस का दूसरा पेपर (GS 2nd Paper – CSAT) होता है और मुख्य परीक्षा में अंग्रेजी और एक भाषा का पेपर होता है।

अनिवार्य विषय (Compulsory Subjects)

इसमें वे विषय शामिल हैं जिन्हें आपको न केवल छोड़ना चाहिए बल्कि आपको उनमें अच्छे अंक भी प्राप्त करने चाहिए ताकि आप प्रारंभिक परीक्षा में जीएस के पहले पेपर और मुख्य परीक्षा में निबंध और जीएस के सभी पेपर,चतुर्थ पेपर विषय आदि में एक शानदार रैंक प्राप्त कर सकें।

वैकल्पिक विषय (Optional Subject)

यह विषय, आपकी परीक्षा के लिए रैंक तय करने के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि इसमें उम्मीदवार अपनी रुचि के अनुसार विषय चुन सकता है। और यह लगभग 250-250 करके प्रथम और द्वितीय पेपर के अनुसार पूरे 500 नंबर का होता है। जो आपकी इस परीक्षा में रैंक बनाने के लिए बहुत जरूरी है। आइए आगे जानते है कि आईएएस बनने के लिए आप कौन सा अनिवार्य विषय (Compulsory Subjects) और वैकल्पिक विषय (Optional Subject) चुन सकते हैं !

ये भी पढ़ें:

IAS बनने के लिए सब्जेक्ट (IAS banne ke liye Subject)

IAS बनने के लिए आपको इन सभी विषयों (ias ki taiyari ke liye subject) के बारे में पढना होता हैं (अनिवार्य विषय – Compulsory Subjects)

  • इतिहास
  • भूगोल
  • संविधान और राजनीति
  • अर्थशास्त्र
  • पर्यावरण
  • सामान्य विज्ञान
  • सामान्य हिंदी
  • अंग्रेजी
  • जैव विविधता
  • सुरक्षा और आपदा प्रबंधन
  • निबंध
  • एथिक्स
  • CSAT
  • आंतरिक सुरक्षा
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी

इन सब के अलावा आपको किसी एक वैकल्पिक विषय का चुनाव करना होता हैं जो आप इन विषयों में से कोई एक हो सकता है, जिसके 2 भाग में पेपर होंगे:

  • गुजराती
  • मणिपुरी
  • संस्कृत
  • हिंदी
  • सिंधी
  • बंगाली
  • कन्नड़
  • उड़िया
  • तमिल
  • कश्मीरी
  • तेलुगु
  • कोंकणी
  • उर्दू
  • मराठी
  • पंजाबी
  • मलयालम
  • अन्य ऑप्शनल
  • कृषि विज्ञान
  • प्रबंधन शास्त्र
  • पशुपालन और पशुचिकित्सा विज्ञान
  • गणित
  • मानवशास्त्र
  • यांत्रिक अभियांत्रिकी
  • वनस्पति विज्ञान
  • चिकित्सा विज्ञान
  • रसायन शास्त्र
  • दर्शनशास्त्र
  • जानपद अभियांत्रिकी
  • भौतिकी
  • वाणिज्य एवं लेखाशास्त्र
  • राजनीतिक विज्ञान एवं अंतरराष्ट्रीय संबंध
  • अर्थशास्त्र
  • मनोविज्ञान
  • विद्युत अभियांत्रिकी
  • लोक प्रशासन
  • भूगोल
  • समाजशास्त्र
  • भूविज्ञान
  • सांख्यिकी
  • भारतीय इतिहास
  • विधि शास्त्र
  • प्राणी विज्ञान

हालांकि ये बात हो गई की IAS के पाठ्यक्रम के अनुसार आपको कौन से विषय पढ़ने होंगे। जैसे कि हमने आपको बताया की इस परीक्षा को देश की सबसे कठिन परीक्षा में से एक कहा जाता है। तो इसकी तैयारी की शुरुआत भी अगर स्कूल और कॉलेज के स्तर पर चुने गए विषयों के आधार से हो जाती है तो इस परीक्षा को पास करना और भी आसान हो जायेगा। तो आगे हम जानते है कि आईएएस बनने के लिए सब्जेक्ट, कौन सा लेना चाहिए (IAS banne ke liye Subject) आदि।

IAS banne ke liye subject

आईएएस के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए | IAS Banne ke liye Subject

चलिए जानते है की स्कूली स्तर पर आईएएस के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए या कौन सा सब्जेक्ट लेना सही रहेगा (ias ki taiyari ke liye subject)।

IAS banne ke liye 11th me konsa subject lena chahiye

दसवीं क्लास पास करने के बाद कैंडिडेट्स अक्सर इस बात को लेकर झिझकते हैं कि उन्हें किस विषय से आगे पढ़ना चाहिए और साथ ही आईएएस भी बनना चाहिए। तो इसके लिए आपको अपनी पसंद के अनुसार विषय का चयन करना होगा लेकिन अगर आप खुद को भविष्य में सिविल सेवक के रूप में देखना चाहते हैं तो आपको निश्चित रूप से ARTS यानी कलां विषय लेना होगा।

यूपीएससी परीक्षा के लिए ARTS विषय

IAS बनने के लिए के लिए सबसे सही विषय Arts या Humanity के विषयों को माना जाता है। क्योंकि UPSC की परीक्षा में ज्यादातर सब्जेक्ट Arts से संबंधित है। Arts में आपको भूगोल, समाजशास्त्र, राजनीति विज्ञान जैसे विषयों के बारे में जानकारी मिलती है। यानी अगर आपको यूपीएससी की तैयारी करनी हैं। तो ये सभी विषय न केवल आपके प्रश्नों को हल करने में काफी फायदेमंद साबित होते हैं। साथ ही, वे मुख्य परीक्षा में उत्तर लिखने और साक्षात्कार के चरण में सामान्य ज्ञान के साथ आपकी बहुत सहायता करेंगे। साथ ही अगर आप 11वीं और 12वीं में ARTS लेते हैं तो आपको यूपीएससी परीक्षा में अप्लाई करने में कोई परेशानी नहीं होगी।

हालाँकि, अगर आपकी रुचि कुछ अलग विषय में हैं, तो आप उस विषय को भी ले सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि उस समय यूपीएससी की किताबों और विषयों को भी अपने दिमाग में रखें।कहीं ऐसा न हो कि आप उस दूसरे विषय को पढ़ते हुए किसी दूसरी ओर चले जाएं और यूपीएससी परीक्षा के बारे में पूरी तरह से भूल जाएं।

यूपीएससी परीक्षा के लिए Commerce विषय

IAS बनने के लिए आवश्यक विषयों में से एक वाणिज्य (Commerce)है। कॉमर्स बैंकिंग से जुड़ा एक विषय है, जो बैंकिंग के लिए तैयारी करनी हो तो बहुत उपयोगी सिद्ध माना जाता है। साथ ही, यदि आप यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने पर विचार कर रहे हैं, तो आपको अर्थशास्त्र और बैंक आदि विषयों से भी प्रश्न देखने को मिलते हैं।

जो एक तरह से काफी मददगार साबित होते हैं। इस विषय का लाभ यह है कि यह आपको देश की आर्थिक व्यवस्था के बारे में बहुत कुछ जानने में मदद मिलता है। तो जब आप एक जिले में आईएएस के रूप में काम करते हैं। तो आपको वहां की आर्थिक स्थिति और इससे निपटने के उचित तरीके के ज्ञान होता है।

लेकिन इस विषय को लेने का एक और फायदा यह है कि आप यूपीएससी के अलावा अन्य क्षेत्रों में परीक्षा में संभावनाएं खोज सकते हैं। ताकि बाद में कभी आपको यूपीएससी के अलावा कोई और लक्ष्य बनाना पड़े,तो ऐसे में यह विषय आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। साथ ही, अगर आपने 11वी या 12वीं में यह विषय लिया है, तो आप आसानी से बाद में यूपीएससी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यूपीएससी परीक्षा के लिए Science विषय

IAS के लिए महत्वपूर्ण विषयों में से एक विज्ञान है। हम आमतौर पर प्रौद्योगिकी (Technology) को सबसे कठिन विषय के रूप में याद करते हैं। अगर हम इसके साथ आगे चलेंगे तो आगे चलकर डॉक्टर या इंजीनियर बनने का भी सोचते है। लेकिन अगर आपका लक्ष्य पहले से ही यूपीएससी फिक्स है तो भी आप science विषय को चुन सकते है।

क्योंकि सांइस विषय लेने का एक और बड़ा फायदा यह भी है कि हम नियमित रूप से देखते हैं कि कई लोग नौकरी के साथ-साथ यूपीएससी की तैयारी भी करते हैं। ऐसे में अगर आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है तो जब आप डॉक्टर या इंजीनियर बन जाते हैं तो बड़ी आसानी से यूपीएससी की तैयारी भी कर सकते हैं। इसके अलावा, यदि किसी कारण से आप यूपीएससी में सफल नहीं होते हैं, तो आप चिकित्सा या इंजीनियरिंग के क्षेत्र में एक अच्छे पेशेवर बने रह सकते हैं।

IAS बनने की योग्यता (Qualification)

IAS बनने के लिए उम्मीदवार को किस भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएट होना अनिवार्य है। वो चाहे Arts से हो, Commerce से या Science से। UPSC का फॉर्म भरने के लिए किसी विशेष अंक सीमा का निर्धारण नहीं किया गया है। बस ग्रेजुशन की डिग्री होना जरुरी है और साथ ही साथ आवेदनकर्ता की उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:

IAS बनने के लिए बुक (Important Books For IAS)

आईएएस बनने के लिए सब्जेक्ट (IAS banne ke liye subject) के बारे में जानने के बाद, अब आप यह जानने के लिए उत्सुक हो सकते हैं कि उन विषयों में कौन सी बुक पढ़नी है, तो हम इसके लिए भी आपको कुछ जानकारी दे सकते हैं, हालांकि हम किसी भी तरह से गारंटी नहीं देते हैं कि आपको क्या पढ़ना है। इसके लिए आप अपने प्रशिक्षक और गुरु से जानाकारी प्राप्त कर सकते हैं।

अगर हम अपनी जानकारी के अनुसार बताएं तो आपको सबसे पहले, कक्षा 6 से कक्षा 12 तक की सभी एनसीईआरटी पुस्तकों (NCERT Books) की पढ़ाई करें जो आपके पाठ्यक्रम के लिए बहुत जरूरी हैं। इसके अलावा लक्ष्मीकांत की संविधान (Laxmikant – Polity) की पुस्तक रमेश सिंह की अर्थशास्त्र (Ramesh Singh – Economics) जैसी पुस्तक देख सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – Related FAQs

IAS की परीक्षा कौन आयोजित कराता है ?

आईएएस की परीक्षा भारत सरकार द्वारा हर वर्ष आयोजित की जाती है।

IAS बनने के लिए सबसे अच्छा सब्जेक्ट कौन सा हो सकता है ?

IAS बनने के लिए ARTS से जुड़े विषय तैयारी में काफी लाभदायक होते है।

IAS बनने के लिए कौन सी किताबे पढ़ना जरूरी है ?

आईएएस बनने के लिए आपको सबसे पहले, कक्षा 6 से कक्षा 12 तक की सभी एनसीईआरटी पुस्तकों (NCERT Books) की पढ़ाई करना चाहिए।

UPSC का फुल फॉर्म क्या है ?

Union Public Service Commission – UPSC का फुल फॉर्म है।

IAS का फुल फॉर्म क्या है ?

Indian Administrative service – IAS का फुल फॉर्म है।

निष्कर्ष (Conclusion)

इस लेख में हमने आपको आईएएस बनने के लिए सब्जेक्ट, कौन से लेने चाहिए (IAS banne ke liye Subject) या जो विषय आईएएस के लिए महत्वपूर्ण है (ias ki taiyari ke liye subject), उनके बारे में विस्तार से जानकारी दी है। हम आशा करते हैं कि आपको हमारा ये लेख पसंद आया हो। इससे जुड़ी किसी भी अन्य जानकारी के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी बात लिखे।