पढ़ाई में मन कैसे लगाएं | पढ़ाई में मन नहीं लगता कैसे लगाएं?

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं, padhai me man kaise lagaye: आज के समय में शिक्षा काफी जरूरी हैं। इसको पाने का सबसे आसान तरीका है पढ़ाई करना। लेकिन आज के बच्चो और युवकों में सबसे बड़ी समस्या है पढ़ाई में मन न लगने का। कई बार तो हम चाह कर भी पढ़ाई में मन नहीं लगा पाते। इसके कई कारण है।

आज के आधुनिक समय में इसे ठीक भी किया जा सकता है। तो अगर आपका भी मन पढ़ाई में नहीं लगता है, तो यह आर्टिकल आपके लिए ही है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको पढ़ाई में मन कैसे लगाएं (padhai me man kaise lagaye), यह बताने जा रहे हैं। इसके अलावा हम आपको इसके कारणों को भी बताएंगे की आखिर विद्यार्थियों का मन पढ़ाई में क्यूं नही लगता।

पढ़ाई में मन क्यूं नही लगता

ऐसा देखा गया है कि हर 4 में से लगभग 1 विद्यार्थी का मन पढ़ाई में नहीं लगता है। बाकी तीन भी कभी न कभी इस समस्या को झेल चुके होते है। पढ़ाई में मन ना लगने के ढेरों कारण हो सकते हैं। जैसे कि विषय में रुचि ना होना, गलत दिनचर्या, पढ़ाई को बोरिंग और बेकार समझना और पढ़ाई को सही तरीके से न करना इत्यादि।

अगर आप भी जाना चाहते हैं कि पढ़ाई में मन कैसे लगाएं (padhai me man kaise lagaye) तो हम आपको आगे कुछ आसान तरीके और टिप्स देने वाले है जिसको आजमा कर आप भी पढ़ाई में मन लगा पाएंगे। इससे पहले आईए पढ़ाई में मन न लगने के कारणों को अच्छे से जान लेते है।

1. विषय में रुचि न होना

कई बार ऐसा होता है कि हम ऐसे विषय या कोर्स को ले लेते हैं जिसमें हमारी रुचि बिल्कुल नहीं होती और इस कारण से भी हमारा मन पढ़ाई में नहीं लगता है। इससे बचने के लिए विद्यार्थियों को चाहिए कि वह ऐसे कोर्स और विषय का चयन करें जिसमें उसकी रूचि हो इससे वह पढ़ाई में मन लगा सकेंगे।

2. गलत दिनचर्या

हमारा दिनचर्या हमारे हर कार्य को प्रभावित करता है। अगर हम अपने दिनचर्या को अच्छा बनाते हैं तो हमारा कार्य भी अच्छे से होता है। गलत दिनचर्या की वजह से ना सिर्फ हमारा काम गड़बड़ होता है बल्कि पढ़ाई और किसी काम में भी सही से मन नहीं लग पाता। इसलिए भी हमे अपने दिनचर्या को अच्छे से अच्छे से बनाना चाहिए।

3. पढ़ाई को बोरिंग और बेकार समझना

कई बार विद्यार्थी पढ़ाई को बोरिंग और बेकार समझने लगते हैं, उन्हें लगने लगता है कि पढ़ाई करके कुछ नहीं हो सकता। इसके कई कारणों से हो सकते है। या तो ये विचार विद्यार्थी के खुद के हो सकते हैं या फिर वह अपने दोस्तों के द्वारा इन बातों को सुनकर भी पढ़ाई को बोरिंग और बेकार समझने लगते हैं। जिस वजह से उनका मन पढ़ाई में लगना बंद हो जाता है। इसलिए ऐसे विचारों को अपने से दूर करके भी आप पढ़ाई में अपना मन लगा सकते हैं।

4. पढ़ाई को सही तरीके से न करना

अगर आप गलत तरीके से पढ़ाई करते हैं तो भी आप इससे बोर हो जाएंगे और आपको पढ़ाई में मन नहीं लगेगा। पढ़ाई को सही से करने पर आप इससे बोर नहीं होंगे और आपको मन भी लगेगा। एक सही तरीका क्या होता है और सही से कैसे पढ़ते है। यह सब हम आपको आगे बताने जा रहे है। आईए इसे जानते है।

ये भी पढ़ें:

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं | Padhai me man lagane ke tarike

दोस्तों ऊपर आर्टिकल में हमने पढ़ाई में मन ना लगने के कुछ प्रमुख कारणों को जाना है। आप इन कारणों को अपने से दूर करके पढ़ाई में मन लगा सकते हैं लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि आप का मन किसी और कारण से पढ़ाई मे नही लगता हो। तो आइए इसके लिए हम आपको कुछ आसान से तरीके बताते हैं, जिसको आप अपनाकर अपना मन पढ़ाई में लगा सकते हैं। यह तरीके कुछ इस प्रकार है।

1. लक्ष्य बनाए और उसकी और बढ़े

लक्ष्य बनाने से मतलब है कि आपको यह पता होना चाहिए कि आप किसी चीज को क्यों पड़ रहे हैं और इसका क्या लाभ है।।कई बार हम किसी चीज को पढ़ते तो हैं लेकिन हम उसके महत्व को नहीं समझते। आप अपने लक्ष्य को निर्धारित करे की आपको आगे क्या करना है। इससे आपको पढ़ने का मोटिवेशन मिलेगा। आप अपने डेली रूटीन को भी बनाए और उसे फॉलो करे। आप अपने रूटीन को फ्लेक्सिबल बनाए ताकि उसे फॉलो कर पाएं।

2. योग का ले सहारा

कई बार जब हम पढ़ने बैठते हैं तो हमारा दिमाग इधर उधर की बातों को सोचने लगता है और हमारा ध्यान इधर-उधर भटकने लगता है। इस वजह से भी हमारा मन पढ़ाई में नहीं लगता। अगर आप का भी ध्यान एक जगह केंद्रित नहीं हो पाता है, तो आप इसके लिए योग का सहारा ले सकते हैं। अपने दिमाग को शांत करने के लिए आप हर रोज प्राणायाम, ध्यान लगाना और भी कई तरह के योग कर सकते है। इसके मदद से न सिर्फ आपका ध्यान लगना शुरू हो जाएगा बल्कि आप कई तरह के रोगों से भी बच पाएंगे।

3. अलग अलग एक्टिविटीज में ले हिस्सा

कई बार ऐसा देखा जाता है कि विद्यार्थी पढ़ाई में इतने लीन हो जाते हैं कि वह अलग-अलग एक्टिविटीज में हिस्सा लेना छोड़ देते हैं। वह खेल को महत्व देना छोड़ देते हैं इसके अलावा वह घूमना फिरना भी छोड़ देते है। इस वजह से भी हमारा मन पढ़ाई में मन लगना बंद हो जाता है। इसलिए आपको चाहिए कि आप खेलकूद, घूमना फिरना इन सभी चीजों को भी थोड़ा बहुत टाइम जरूर दे।

4. Early bird or night owl

कुछ विद्यार्थी देर रात तक पढ़ते हैं तो कुछ विद्यार्थी सुबह उठकर पढ़ते हैं। जो विद्यार्थी देर रात तक पढ़ते हैं उन्हें नाइट ऑल कहा जाता है, तो वही जो विद्यार्थी सुबह उठकर पढ़ते हैं उन्हें अर्ली बर्ड कहा जाता है। कई बार ऐसा देखा जाता है कि विद्यार्थी दोनों बनने की कोशिश करने लगते हैं। वह देर रात तक भी पढ़ते हैं और सुबह उठकर भी पढ़ने की कोशिश करते हैं।

इस वजह से उनका मन पढ़ाई में लगना बंद हो जाता है क्योंकि शरीर का अपना क्षमता होता है और इस वजह से पढ़ाई में मन लगना बंद हो जाता है। इसलिए विद्यार्थियों को चाहिए की वह अपने सहूलियत के अनुसार किसी एक का चयन करे।

ये भी पढ़ें:

Conclusion

दोस्तों आज के समय में छात्रों का मन पढ़ाई में न लगना काफी आम बात है। आज हमारे चारों ओर इतना ज्यादा डिस्ट्रेक्शन बढ़ गया है कि हम पढ़ाई में मन नहीं लगा पाते। आज के इस आर्टिकल में हमने पढ़ाई में मन न लगने की अलग-अलग कारणों के बारे में जाना। इसके साथ ही हमने पढ़ाई में मन कैसे लगाएं (padhai me man kaise lagaye), यह भी जाना।

हमने इसके लिए कुछ बेहतरीन उपायों को भी जाना, जो इसमें काफी कारगर साबित हो सकते हैं। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा और क्या यह आर्टिकल आपके लिए हेल्पफुल रहा या नही, हमें कमेंट करके जरूर बताएं।